9वीं 11वीं क्लास में आए हैं 55 % से कम अंक, तो भी मिलेगी Scholarship

0
297

ज़रूरतमंद छात्रों को अगर छात्रवृत्ति (Scholarship) मिल जाती है तो वो आगे की पढ़ाई जारी रख पाते हैं। इस Scholarship को पाने के लिए कुछ नियमों का पालन भी करना पड़ता है। राष्ट्रीय आय सह मेधा छात्रवृत्ति का लाभ अधिक से अधिक छात्रों को मिले, इसके लिए NCERT ने अंकों की बाध्यता ख़त्म कर दी है। अब नौवीं और 11वीं में 55 फीसदी से कम अंक आने पर भी यह Scholarship मिलती रहेगी।

अब आठवीं में पढ़ने वाले वे विद्यार्थी भी इस Scholarship के लिए आवेदन कर सकेंगे, जिनकी पारिवारिक आय साढ़े तीन लाख है। इससे इस Scholarship का लाभ अधिक से अधिक बच्चों को मिलेगा। बता दें कि NCERT की ओर से यह Scholarship योजना आठवीं में पढ़ने वाले सरकारी स्कूल के छात्र और छात्राओं के लिए है, लेकिन अभी तक इसमें वही छात्र आवेदन कर पाते थे, जिनकी पारिवारिक आय 1.50 लाख रुपये था। अब इसे बढ़ाकर साढ़े तीन लाख कर दिया गया है। इससे छात्रों की संख्या बढ़ जायेगी।

NCERT द्वारा इसमें एक और बदलाव किया गया है। इस छात्रवृत्ति में नौवीं से 12वीं तक सालाना 12 हजार रुपये दिये जाते हैं। ऐसे में छात्रों को नौवीं और 11वीं में 55 फीसदी अंक लाना जरूरी होता है। वहीं दसवीं में 60 फीसदी अंक अनिवार्य है। NCERT ने नौवीं और 11वीं में 55 फीसदी अंक लाने की बाध्यता को खत्म कर दिया है। अब 55 फीसदी से कम अंक लाने वाले छात्र और छात्रा को Scholarship मिलती रहेगी।

NCERT के निर्देश पर एससीईआरटी द्वारा राज्य स्तर पर यह Scholarship परीक्षा ली जाती है। एक लिखित परीक्षा के आधार पर बच्चों का चयन होता है। बिहार से हर साल 40 से 50 हजार विद्यार्थी इस Scholarship परीक्षा में शामिल होते हैं। 2022 के लिए जल्द ही आवेदन प्रक्रिया शुरू होगी। जल्द ही आवेदन तिथि जारी की जायेगी। NCERT द्वारा पहले परीक्षा लेने के लिए प्रति छात्र 50 रुपये दिये जाते थे। अब इसे बढ़ाकर प्रति छात्र सौ रुपये किया गया है।

यह भी पढ़ें – कांवड़ियों के लिए ट्रैफिक किया डायवर्ट, फिर नमाज़ से क्या दिक्कत है : Asaduddin Owaisi

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है