आख़िर क्यों बैन कर दी गई Jama Masjid में लड़कियों की एंट्री, जानें वजह

0
174

एक ख़बर ने आज Delhi में हलचल पैदा कर दी है, दरअसल दिल्ली की ऐतिहासिक Jama Masjid में लड़कियों के प्रवेश पर पाबंदी गला दी गई है। मस्जिद प्रबंधन ने तीनों एंट्री गेट पर एक नोटिस बोर्ड लगा दिया है जिसमें लिखा है, ‘Jama Masjid में लड़कियों का अकेले दाखिल होना मना है।’ मतलब कि लड़की के साथ अगर कोई पुरुष अभिभावक नहीं है, तो उन्हें मस्जिद में प्रवेश नहीं मिलेगा। इसे लेकर विवाद बढ़ता हुआ दिख रहा है।

Jama Masjid के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने साफ किया है कि नमाज पढ़ने के लिए आने वाली महिलाओं को नहीं रोका जाएगा। उन्होंने कहा, ‘ऐसी शिकायतें आ रही थीं कि लड़कियां अपने प्रेमियों के साथ मस्जिद में आती हैं। अगर कोई महिला Jama Masjid आना चाहती है, तो उसे परिवार या पति के साथ आना होगा। अगर नमाज पढ़ने के खातिर आती है तो उसे नहीं रोका जाएगा।

Jama Masjid के पीआरओ सबीउल्लाह खान ने कहा, ‘महिलाओं का प्रवेश प्रतिबंधित नहीं है। जब लड़कियां अकेले आती हैं, तो अनुचित हरकतें करती हैं, वीडियो शूट करती हैं। इसे रोकने के लिए बैन है। परिवारों/विवाहित जोड़ों पर कोई प्रतिबंध नहीं है। धार्मिक स्थलों को अनुपयुक्त बैठक बिंदु बनाना नहीं चाहिए। इसलिए प्रतिबंध है।’ ज्यादातर मुस्लिम धर्मगुरुओं के मुताबिक, इबादत को लेकर इस्लाम महिला-पुरुष में कोई फर्क नहीं करता। महिलाओं को भी उसी तरह इबादत का हक है, जैसे पुरुषों को है। मक्का, मदीना और यरुशलम की अल अक्सा मस्जिद में भी महिलाओं की एंट्री बैन नहीं है। हालांकि, भारत की कई मस्जिदों में महिलाओं की एंट्री बैन है।

यह भी पढ़ें – World Chess Championship : फ्रांस को हराकर शतरंज चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचा भारत

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है