WFI के अध्यक्ष Brij Bhushan Sharan मुश्किल में फंसे, इस्तीफे की उठ रही मांग

0
230

भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह सितारे गर्दिश में नज़र आ रहे हैं। पहलवानों के लगाए गए गंभीर आरोपों के बाद Brij Bhushan Sharan Singh मुश्किल में फंसते दिखाई दे रहे हैं। विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया समेत 30 प्रमुख पहलवानों ने बृजभूषण पर कार्रवाई की मांग की है।

Brij Bhushan Sharan Singh 22 जनवरी को इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं। वहीं, पूरे विवाद पर खेल मंत्रालय के साथ खिलाड़ियों ने गुरुवार (19 जनवरी) को अहम बैठक की। भारतीय कुश्ती महासंघ की कार्यकारी समिति और वार्षिक आम बैठक (एजीएम) 22 जनवरी को UP के अयोध्या में बुलाई गई है। इस बैठक में महासंघ के अध्यक्ष Brij Bhushan Sharan Singh भी हिस्सा लेंगे। सूत्रों के अनुसार, वे इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं।

तीन बार राष्ट्रमंडल खेलों की पदक विजेता और बीजेपी नेता बबीता फोगाट गुरुवार को सरकार की ‘संदेशवाहक’ बनी और धरने पर बैठे पहलवानों को उनकी मांगे पूरी करने का आश्वासन दिया जो भारतीय कुश्ती महासंघ को भंग करने की मांग कर रहे हैं। तीन बार की राष्ट्रमंडल चैम्पियन विनेश फोगाट और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता बजरंग पूनिया तथा साक्षी मलिक समेत भारत के शीर्ष पहलवान जंतर मंतर पर लगातार दूसरे दिन धरने पर बैठे। वे WFI अध्यक्ष Brij Bhushan Sharan Singh के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं जिन पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाये गए हैं। पूर्व पहलवान बबीता धरना स्थल पर आई और पहलवानों की मांगे सुनी।

विनेश ने बुधवार को दावा किया कि WFI अध्यक्ष कई साल से महिला पहलवानों का यौन शोषण कर रहे हैं। सिंह ने इन आरोपों का खंडन किया है। विनेश ने यह भी आरोप लगाया कि लखनऊ में राष्ट्रीय शिविर में कई कोचों ने महिला पहलवानों का शोषण किया है। वहीं, पहलवानों के समर्थन में धरना स्थल पर पहुंची माकपा नेता बृंदा कारत को पहलवानों ने यह कहकर वहां से जाने के लिए कह दिया कि वे इस प्रदर्शन को राजनीतिक रंग नहीं देना चाहते। बजरंग ने कहा ,” हम आपसे निवेदन करते हैं मैडम कि इसे राजनीतिक नहीं बनाए।”

बबीता ने कहा ,” मैं हल निकालने की कोशिश करूंगी। मैं पहले पहलवान हूं और फिर राजनेता। मैं इनका दर्द समझती हूं और मैं इनकी मांगे पूरी करने की कोशिश करूंगी।” बजरंग, अंशु मलिक, साक्षी और विनेश ने मांग की है कि WFI को भंग करके नया महासंघ बनाया जाए। बबीता के जाते ही पहलवानों में से बजरंग, उनकी पत्नी संगीता, विनेश, सरिता मोर, अंशु मलिक, अंतिम पंघाल को खेल सचिव सुजाता चतुर्वेदी ने भी बातचीत के लिए बुलाया। उनके अलावा भारतीय खेल प्राधिकरण के महानिदेशक संदीप प्रधान और संयुक्त सचिव (खेल) कुणाल भी बैठक में शामिल हुए। टोक्यो ओलंपिक रजत पदक विजेता रवि दहिया और विश्व चैम्पियनशिप रजत पदक विजेता दीपक पूनिया भी कई अन्य के साथ धरने में शामिल हुए।

यह भी पढ़ें – जानें, Mumbai Police ने Rakhi Sawant को हिरासत मे क्यों लिया

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है