बेवक़्त कोई भी चीज़ हो वो अच्छी नहीं लगती। इस बार तो Baarish ने हद ही कर दी है। आमतौर पर इन दिनों में Baarish नहीं होती है लेकिन पिछले काफी समय से मौसम का पैटर्न बदल रहा है। नतीजा यह है कि उत्तर से दक्षिण तक देश के कई हिस्सों में बारिश हो रही है। जिसने लोगों का जीना मुहाल किया हुआ है।

मौसम विभाग ने कहा कि उत्तर-पश्चिम भारत में 18-19 अक्तूबर को भी Baarish का दौर जारी रह सकता है। वहीं, केरल समेत दक्षिण भारतीय राज्यों में Baarish रविवार से घटनी शुरू हो गई है। हालांकि, दक्षिणी राज्यों में Baarish का एक और दौर 20 अक्तूबर के बाद से शुरू हो सकता है।

मौसम विभाग के मुताबिक Baarish के पीछे कई कारण हैं। पहला, दक्षिणी अरब सागर में एक निम्न दबाव क्षेत्र का बनना। दूसरा, बंगाल की खाड़ी से चलने वाली पूर्वी हवाओं का फिर से मजबूत होना। आमतौर पर मानसून के दौरान ये हवाएं मजबूत होती हैं, लेकिन इस बार अभी तक बनी हुई हैं। तीसरा, उत्तर-पश्चिम भारत में अफगानिस्तान की तरफ से सक्रिय हुआ एक पश्चिमी विक्षोभ। इन तीनों मौसमी घटनाओं के चलते देश के सभी हिस्सों में Baarish हो रही है। दक्षिणी राज्यों खासकर केरल में ज्यादा Baarish हुई है।

मौसम विभाग ने रविवार को जारी पूर्वानुमान में कहा कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और पहाड़ी राज्यों में अगले दो दिन Baarish जारी रहेगी। दक्षिणी राज्यों में इसमें कमी शुरू हो गई है। मध्य भारत में 20 अक्तूबर और पूर्वोत्तर में 21 अक्तूबर तक Baarish का मौसम बना रहेगा।

झारखंड राज्य की राजधानी रांची सहित बिहार के कई हिस्सों में रविवार रात से Baarish शुरू हो गई है। भारतीय मौसम विभाग ने सोमवार से 72 घंटे का येलो अलर्ट जारी किया है। इतना ही नहीं कल तक उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में भारी Baarish होने की संभावना है। हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी आज भारी Baarish की संभावना है। दिल्ली में रविवार रात पहले ही व्यापक बारिश दर्ज की जा चुकी है। दीपावली से ठीक पहले उत्तर भारत के राज्यों में Baarish से जहां ठंड के जल्द दस्तक देने के आसार हैं, वहीं प्रदूषण से फौरी राहत भी मिलेगी।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है