अमेरिका ने ईरानी कुद्स सेना के प्रमुख कासिम सुलेमानी को एयर स्ट्राइक में मार गिराया था।

अमेरिका और ईरान इस समय आमने-सामने हैं। दोनों देशों के बीच युद्ध की स्थिति पैदा हो गई है। अमेरिका ने ईरानी कुद्स सेना के प्रमुख कासिम सुलेमानी को एयर स्ट्राइक में मार गिराया था। जिसके बाद दोनों देश युद्ध के मुहाने पर आकर खड़े हो गए है। इस घटना के बाद जहां ईरान इंतकाम की आग में जल रहा है। तो वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी ईरान को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर ईरान की तरफ से कोई भी कदम उठाया गया तो ‘तबाह कर देंगे’।

क्या है अमेरिकी सेना को वापस बुलाने का सच ?

कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद अमेरिका ने अमेरिकी सेना को वापस बुलाने का आदेश दिया था। जिसे अब एक गलती बताया जा रहा है। इराक में अमेरिकी सेना टास्क फोर्स के इंचार्ज को भेजे लेटर में सेना को इराक छोड़ने की बात को एक गलती करार दिया है। अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने लैटर को अमेरिका स्टैंड नहीं बताते हुए कहा कि अमेरिकी सेना को इराक छोड़ने का कोई निर्णय नहीं हुआ है।

बढ़ते तनाव के बीच ईरान ने लिया खतरनाक फैसला, कहा अमेरिका परमाणु…

उन्होंने इसे पूरी तरह से एक गलती करार दिया है। ऐसे में अब अमेरिका अपनी फोर्स को इराक से हटाने के पक्ष मे बिल्कुल भी नजर नहीं आ रहा है। अभी इराक में करीब 5200 अमरीकी सैनिक तैनात है। ये सैनिक ISIS सेलड़ने के लिए इराकी फोर्स को ट्रेनिंग दे रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के सिर धड़ से अलग करने पर मिलेगा 80 मिलियन डॉलर का इनाम

कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद ईरान में बहुत ज्यादा गुस्सा देखा जा रहा है। अमेरिका और ईरान के बीच लगातार बढ़ रहे इस तनाव को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी चिंता जाहिर की है। जिसके चलते संयुक्त राष्ट्र संघ ने दोनों देशों से संयम बरतने की अपील की है।