तुर्की के पाकिस्तान को लगातार दिए जा रहे समर्थन के चलते ये फैसला लिया गया है।

तुर्की द्वारा लगातार पाकिस्तान को समर्थन दिया जा रहा है। चाहे वो तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर मुद्दा उठाने की बात हो या फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) बैठक में खुलकर पाकिस्तान का साथ देना। तुर्की हर तरफ पाक की और खड़ा नज़र आ रहा है। उसके पाकिस्तान की ओर इस रवैये के चलते  भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रस्तावित तुर्की यात्रा को रद्द करने का फैसला लिया है।

अयोध्या मामले में CJI  रंजन गोगोई ने कहा- आज सुनवाई का 39वां दिन और कल आखिरी दिन

Related image

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बड़े निवेश सम्मेलन में भाग लेने के लिए 27-28 अक्टूबर को सऊदी अरब के लिए रवाना हो रहे हैं। उन्हें वहीं से तुर्की के लिए जाना था लेकिन अब उनकी यात्रा रद्द कर दी गई है। माना जा रहा है कि तुर्की के पाकिस्तान को लगातार दिए जा रहे समर्थन के चलते ये फैसला लिया गया है।

Image result for पीएम मोदी ने तुर्की की यात्रा रद्द की,

सलमान खान के बॉडीगार्ड शेरा ने राजनीतिक पारी शुरू की, इस पार्टी से लड़ेंगे चुनाव

सुत्रों के मुताबिक पीएम मोदी की इस तुर्की यात्रा पर सैद्धांतिक रूप से सहमति बनी थी और इसमें व्यापार और रक्षा सहयोग जैसे मुद्दों पर बात होनी थी। विदेश मंत्रालय ने इस यात्रा पर कोई जानकारी नहीं दी है।

तुर्की के साथ के कारण ब्लैकलिस्ट होने से बचा था पाकिस्तान

तुर्की, चीन और मलेशिया द्वारा एक साथ दिए गए समर्थन के आधार पर एफएटीएफ ने पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट में शामिल नहीं करने और बाकी कदम उठाने के लिए और अधिक समय देने का फैसला किया है। बता दें कि 36 देशों वाले एफएटीएफ चार्टर के मुताबिक, किसी भी देश को ब्लैकलिस्ट नहीं करने के लिए कम से कम तीन देशों के समर्थन की जरूरत होती है।