डॉ हर्बर्ट क्लेबर ने कोलंबिया यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ फिजिशियन में एडिक्शन और नशीले पदार्थों के सेवन डिवीजन की स्थापना की, जो देश का सबसे सफल प्रोग्राम बना।

डॉ हर्बर्ट क्लेबर इनके बारे में बेहद कम लोग जानते हैं। लेकिन मेडिकल क्षेत्र से जुड़े लोग और ऐसे लोग जो नशे से मुक्ति चाहते हैं वो डॉ हर्बर्ट क्लेबर को अच्छे जानते और पहचानते होंगे। जी हां गूगल ने जिन डॉ हर्बर्ट क्लेबर का डूडल बनाया है वह नशे की लत से छुटकारा दिलाने में माहिर थे।

आज है Google का 21वां जन्मदिन, पढ़ें गूगल से जुड़ी ये खास बातें

डॉ हर्बर्ट क्लेबर का गूगल ने बनाया डूडल,

डॉक्टर हरबर्ट क्लेबर का जन्म 19 जून 1934 को पेन्सिलवेनिया के पिट्सबर्ग में हुआ था। हरबर्ट क्लेबर ने डार्टमाउथ कॉलेज में चिकित्सा की पढ़ाई की। जहां उनकी रुचि मनोविज्ञान में दिखी। तीन साल तक उन्होंने लोगों को नशे की लत छुड़ाने में मदद की। हरबर्ट केंटुकी में नशे की लत में पढ़ने वाले कैदियों का इलाज किया करते थे। उन्होंने सबसे पहले पता लगाने की कोशिश की कि व्यक्ति को नशे की लत क्यों लगती है और इससे कैसे छुटकारा पाया जा सकता है।

डॉ हर्बर्ट क्लेबर का गूगल ने बनाया डूडल,

डॉक्टर क्लेबर ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर कोलंबिया यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ फिजिशियन में एडिक्शन और नशीले पदार्थों के सेवन डिवीजन की स्थापना की, जो देश का सबसे सफल प्रोग्राम बना। उन्होंने नशे से छुटकारा पाने का सफल इलाज ढूंढा निकाला। उन्होंने देखा कि अनुसंधान, दवा और चिकित्सा के माध्यम से भी नशे की लत छुड़ाई जा सकती है। 23 साल पहले उनको आज ही के दिन नेशनल एकेडमी ऑफ मेडिसिन का सदस्य चुना गया था।

विक्रम लैंडर नहीं कर पाया सॉफ्ट लैंडिंग, नासा ने भेजी कुछ तस्वीरें