इजरायल के हवाई हमला से कई लोगों के मारे जाने की अरब देशों के लोगों ने काफी आलोचना करने के साथ ही कड़ी निंदाकर रहें हैं और फिलिस्तीन के प्रति अपना समर्थन दे रहे हैं। इसी कड़ी में अरब देशों के लोगों ने इजरायल के खिलाफ सड़को पर प्रदर्शन के जरिए अपना गुस्सा जाहीर कर रहें हैं, साथ ही सोशल मीडिया और अखबारों के आलेखों में भी देखा जा रहा है वही कुछ महीने पहले यहूदी देश के साथ अपना संबंध स्थापित करने के लिए संयुक्त अरब अमीरात समेत कई खाड़ी देशों के द्वारा समझौते किए गए थे.

इसी कड़ी में जानकारों का कहना है कि लड़ाई के चलते सऊदी अरब जैसे कई अन्य अरब देशों के साथ संबंध अच्चछे करने के लिए एक दूसरे से सलाह करने के इजरायल के प्रयासों को बड़ा झटका लगेगा. वही खाड़ी के कई अरब देशों ने हिंसा की निंदा की है. साथ ही यह सभी लोग भी फिलिस्तीन के अपने अधिकारों का साथ दे रहें व इजरायल की जमकर निंदा कर रहे हैं. वही अमीरात के राजनीतिक जानकार अब्दुखालेक अब्दुल्ला का कहना है कि अरब अमीरात ने जो बयान जारी किया है। जिसमे सभी पक्षों को तुरंत युद्ध रोकने का निर्देश दिया गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि इसको और भी कड़े शब्दों में कहना चाहिए था इजरायल का नाम आक्रामणकारी के जैसा होना था. इसके साथ ही बहरीन में सामाजिक संस्थाओं ने सरकार से आग्रह किया कि इजरायल के राजदूत को निष्कासित करें

यह भी पढ़ें: ग़ज़ा-इजरायल के बीच हिंसा को रोकने की कोशिशें तेज,UNSC ने रखा अपना पक्ष

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है