युपी के चंदौली में जिला प्रशासन लगातार कोशिश कर रही है कि गौ आश्रय केंद्रो के जरिए सुरक्षित रखा जा सके. साथ ही गोवंशों को चारा, पानी और साफ सफाई की व्यवस्था की जा सके. लेकिन प्रशासन के लाखों खर्च करने के बावजुद भी जमीनी स्तर पर शासन की गौ सरक्षण योजना व्याप्तं भ्रष्टाचार के चलते दम तोडती नजर आ रही है

गौ सेवा केंद्रो की बदहाल स्थिति लगातार देखने को मिल रही है. पुरा मामला चकिया ब्लाकं परिसर के पशु आश्रय केंद्र का है जहां शासन की मंशा के अनुरूप आसपास के गोवंशो को सुरक्षित रखा गया है लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही से गोवंशो की स्थिति चारे के अभाव मे लगातार खराब होती जा रही है. वही परिसर में ही पशु अस्पताल होने के बाद भी गोवंश ईलाज के अभाव मे तड़प तड़प के दम तोड़ रहे है.

शासन की गौ संरक्षण योजना दम तोडती नजर आ रही है ऐसा नही है कि है गौवंशो की स्थिति के बारे मे किसी भी जिम्मेदार अधिकारियों को जानकारी नहीं है पशु चिकित्सक समेत जिम्मेदार अधिकारी शासन की योजना को पलीता लगाते नजर आ रहे है.. जिसमे शासन की गौ संरक्षण योजना कागजो तक ही सिमटती नजर आ रही है तथा जिम्मेदार अधिकारी शासन की योजना को पलीता लगाते नजर आ रहे है

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है