पीएम मोदी ने आज अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के 100 साल पूरे होने के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए AMU के योगदान की तारीफ की।  मोदी ने कहा कि अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के कैम्पस में एक भारत- श्रेष्ठ भारत की भावना मजबूत रहे। AMU से तालीम लेकर निकले लोग आज दुनिया के सैकड़ों देशों में छाए हुए हैं। AMU में मुस्लिम लड़कियों की संख्या 35% हो गई है। जेंडर के आधार पर भेदभाव नही होना चाहिए।

मोदी ने वुमेन एम्पावरमेंट की भी बात की

मोदी ने महिलाओं के शिक्षित होने की भी बात कही है उन्होने कहा कि महिलाओं को शिक्षित इसलिए होना चाहिए। ताकि वह अपना भविष्य सुरक्षित कर सके। इकोनॉमिक इंडिपेंडेंस एम्पावरमेंट लेकर आता है। फिर चाहे घर, समाज को दिशा देने की बात हो या देश को दिशा देने की। बेटियों को ज्यादा से ज्यादा हायर एजुकेशन दिया जाना जरूरी है। मोदी ने कहा एक समय था पढ़ाई बीच में छोड़ने वाली मुस्लिम बेटियों की दर 70% से ज्यादा था। लेकिन अब पढ़ाई बीच में छोड़ने वाली मुस्लिम बेटियों की दर 70% से 30% रह गई है। पहले मुस्लिम बेटियां शौचालय न होने की वजह से पढ़ाई बीच में ही छोड़ देती थीं, अब ऐसा नहीं हो रहा है।

मोदी ने सर सैयद अहमद खान को किया याद

मोदी ने कहा सर सैयद अहमद खान ने यूनिवर्सिटी की स्थापना की। उनके जरिए मैं देश के हर टीचर का अभिनंदन करता हूं। सर सैयद ने कहा था कि देश की चिंता करने वाले का सबसे बड़ा कर्तव्य है कि वह लोगों के लिए काम करे, भले ही उनका मजहब, जाति कुछ भी हो। जिस तरह मानव जीवन के लिए हर अंग का स्वस्थ रहना जरूरी है, उसी तरह समाज का हर स्तर पर विकास जरूरी है। देश उसी राह पर आगे बढ़ रहा है। हर नागरिक संविधानों से मिले अधिकारों को लेकर निश्चिंत रहे। हम उस राह पर बढ़ रहे हैं कि कोई मजहब की वजह से पीछे नही छूटना चाहिए। सबको विकास के पूरे मौके मिलें। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास इसका मूलमंत्र है।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है