विवादों में घिरी पतंजलि की Coronil

0
154

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए पतंजलि Coronil लेकर आई थी जिसको लेकर एक बार फिर विवाद गहराने लगा है। दरअसल इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने कोरोनिल का समर्थन करने पर स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को आड़े हाथों लिया है। मामले को लेकर विवाद बढ़ा तो अब पतंजलि ने सफाई दी है

पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन ट्रस्ट के महासचिव आचार्य बालकृष्ण ने मामले को लेकर कहा कि WHO_GMP के मुताबिक कोरोनिल को CoPP लाइसेंस से सम्मानित किया गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि डॉ. हर्षवर्धन ने किसी भी आयुर्वेदिक दवा का समर्थन नहीं किया है

बता दें कि बाबा रामदेव ने 19 फरवरी को कोरोना की दवा के तौर पर Coronil को लांच किया था। इस दौरान कार्यक्रम में नितिन गडकरी और हर्षवर्धन सिंह भी मौजूद रहे। इस दौरान बाबा रामदेव ने दावा किया था कि आयुर्वेदिक दवा WHO  सर्टिफाइड है साथ ही उन्होंने कोरोनिल को कोरोना के इलाज के लिए बेहतर दवा होने का दावा भी किया था। रामदेव ने कहा कि कोरोनिल के क्लिनिकल ट्रायल भी किए गए। बता दें कि विवाद बढ़ने के बाद पतंजलि के प्रबंध निदेश आचार्य बालकृष्ण ने ट्वीट कर सफाई दी थी

वहीं पूरे मामले को लेकर दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन यानि डीएमए ने डॉक्टर हर्षवर्धन की मौजूदगी में Coronil दवा पेश करने पर आइएमए के बयान को लेकर आपत्ति जताई है

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है