दिल्ली में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर मार्च निकाला गया था जिसके दौरान दिल्ली की कई जगहों में हिंसा हुई थी. हिंसा को लेकर अब तक कुल 22 केस दर्ज़ की जा चुकी हैं. FIR में कई किसान नेताओं का भी ज़िक्र किया गया है. इस मामले में साज़िश को लेकर दिल्ली पुलिस FIR दर्ज़ करेगी और हिंसा के पीछे जो लोग हैं, उनका पता लगाया जायेगा।

दिल्ली हिंसा के कारण 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी और कई किसान घायल हो गए. दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल में कुल 18 घायल किसानों और पुलिसकर्मियों का उपचार किया जा रहा है. आईएसबीटी ट्रामा सेंटर में कल शाम को करीब 47 घायलों को शिफ्ट किया गया था. लाल किले के सुरक्षा व्यवस्था की लगातार ड्रोन कैमरे के जरिये निगरानी की जा रही है,

किसान आंदोलन में दो औरतों की मौत

सीसीटीवी फुटेज के जरिए दिल्ली पुलिस अब प्रदर्शनकारियों की पहचान करने में जुट गई है. लालकिले, नांगलोई, मुकरबा चौक, सेंट्रल दिल्ली में सीसीटीवी कैमरों से फुटेज निकालने के लिए स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच की मदद ली जा रही है.

दिल्ली पुलिस उन लोगो पर ख़ास नज़र बनाए हुई है जिन्होंने दिल्ली पुलिस पर हमला किया, लाल किले पर चढ़े, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया और साथ ही उन किसान नेताओं की भी पहचान की जा रही जिन्होंने आंदोलनकारियों को निर्धारित रुट से अलग सेंट्रल दिल्ली जाने के लिए भड़काया।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं