मध्य प्रदेश सरकार ने शिक्षा से जुड़ा एक फैसला लिया है अगले शैक्षणिक सत्र से मध्य प्रदेश सरकार हर जिले में एक ऐसा प्ले स्कूल खोलेगी जहां सिर्फ संस्कृत भाषा में पढ़ाई होगी। यह जानकारी राज्य के शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने दी है।

इंदर सिंह परमार ने ये भी कहा ‘एलकेजी और यूकेजी की बजाय इन कक्षाओं का नाम अरुण और उदय होगा। हर जिले में एक सरकारी स्कूल होगा, जहां बच्चों को संस्कृत सिखाई जाएगी। संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है। संस्कृष भाषा सीखने से बच्चों का दिमाग खुलेगा। यह भाषा और भारतीय संस्कृति दोनों को बढ़ावा देगा। मंत्री इंदर सिंह ने बताया कि स्कूल के सिलेबस, नियुक्तियां और अन्य बुनियादी ढांचे संबंधी काम एमपी स्टेट ओपन स्कूल एजुकेशन बोर्ड और योग गुरु रामदेव की महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान के जिम्मे होगा।

आपको बता दें, संस्कृत प्ले स्कूल में बच्चों की भाषा और ज्ञान पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इन स्कूलों में एलकेजी और यूकेजी कक्षा के बच्चों को मात्र संस्कृत भाषा में ही बोलना, शिष्टाचार, श्लोक और अलग-अलग वस्तुओं के नाम सिखाए जाएंगे।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है