कोरोना: Janta Curfew का 1 साल, कितने बदले हालात ?

0
163

एक साल पहले जब कोरोना वायरस चरम पर था तो आज ही के दिन (22 मार्च 2020) को Janta Curfew लगाया गया था। भारतवासियों से कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए अपने-अपने घरों में रहने के लिए कहा गया था। साथ ही लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, मास्क पहनने समेत कोरोना गाइडलाइंस का पालन करने के निर्देश दिए गए थे। एक तरह से कहा जा सकता है कि Janta Curfew के जरिए कोरोना के प्रसार को रोकने की ये आधिकारिक शुरुआत थी। वो दौर ऐसा था कि लोगों में कोरोना महामारी की खूब दहशत थी लिहाजा जब जनता कर्फ्यू का ऐलान हुआ था तो उस दिन अजीब सा सन्नाटा देखने को मिला था। लोग भी कोरोना महामारी की गंभीरता को देखते हुए कोरोना गाइडलाइंस का कड़ाई से पालन कर रहे थे। जब जनता कर्फ्यू लगा था उस वक्त से पहले भारत में केवल 360 मामले सामने आए थे जिनमें से 41 विदेशियों के थे।

सवाल उठता है कि इन एक सालों में हालात कितने बदले हैं। क्या अब भी लोग कोरोना महामारी को उतनी गंभीरता से ले रहे हैं। दरअसल महीनों की पाबंदी के बाद जब धीरे-धीरे अनलॉक शुरु हुआ तो जिंदगी पटरी पर लौटने लगी और देखते ही देखते भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना की दो वैक्सीन भी बना ली। 16 जनवरी से शुरु हुआ कोरोना वैक्सीनेशन भी रफ्तार पकड़ चुका है। 1 मार्च से इस अभियान का दूसरा चरण भी शुरु हो चुका है

वैक्सीन बनने और टीकाकरण अभियान के पहले चरण के बीच के दौर में कोरोना के मामलों में कमी भी देखने को मिली थी। लगा था कि अब भारत जल्दी ही इस महामारी पर काबू पा लेगा। ऐसा इसलिए हुआ था क्योंकि लोगों ने कोरोना गाइडलाइंस का कड़ाई के साथ पालन किया था लेकिन अब हालात एक बार फिर बदले बदले नजर आ रहे हैं। आसार तो ऐसे बन रहे हैं कि जल्द ही कोरोना संक्रमितों का रोजाना सामने आने वाला आंकड़ा 50 हजार को छू लेगा। कई राज्यों में तो कोरोना की दूसरी लहर देखने को मिल रही है। लेकिन आखिर कोरोना के मामलों में इजाफा क्यों हो रहा है। इस सवाल का जवाब शायद हम सबके पास है। दरअसल अब लोगों ने लापरवाही बरतना शुरु कर दिया है। जिसकी वजह से कोरोना के दैनिक मामलों में एक बार फिर उछाल देखने को मिल रहा है। उम्मीद करेंगे की लोग कोरोना के मामलों को गंभीरता से लेंगे तभी इस महामारी से जंग जीती जा सकती है।

यह भी पढ़ें: क्या वजह है जो Corona महामारी के बाद भी इस देश मे है सबसे ज्यादा खुशहाली

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है