Ukraine Russia War : नहीं मिली सरकारी मदद, प्राइवेट Bus से पौलेंड के लिए निकले भारतीय छात्र

0
297

डॉक्टर बनने का सपना अब भारतीय छात्रों को भारी पड़ने लगा है। अपनी जान बचाने के लिए सभी लोग परेशान है और सरकारी मदद का इंतज़ार कर रहे हैं। Ukraine और रूस के बीच चल रहे युद्ध के बीच मैनपुरी के करहल के Ukraine में पढ़ रहे मेडिकल छात्रों ने देर रात वहां के लिविव शहर को छोड़ दिया है। छात्र शुक्रवार(25 फरवरी) को सुबह से ही सरकारी मदद का इंतज़ार कर रहे थे। लेकिन उन्हें कोई मदद नहीं मिल पाई।

ऐसे हालात में लगभग 40 छात्र-छात्राओं ने प्राइवेट Bus को किराए पर लिया और रात 9 बजे पोलैंड बॉर्डर के लिए रवाना हो गए। जनपद के कस्बा करहल निवासी विवेक यादव की पुत्री कोयना और करहल के रोडवेज Bus स्टैंड निवासी कुशाग्र Ukraine के लीविव शहर में रहकर मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं। रूस के साथ हुए युद्ध के बाद हालात बिगड़े तो कोयना और कुशाग्र वहां रह रहे अन्य छात्र-छात्राओं के साथ भारत आने के लिए पिछले दो दिन से प्रयास कर रहे हैं। लेकिन युद्ध के चलते उन्हें कोई अपेक्षित मदद नहीं मिल पा रही थी। शुक्रवार को सुबह से ही कोयना और कुशाग्र में वापस आने के लिए भारतीय दूतावास से संपर्क किया लेकिन संपर्क नहीं हो पाया। दोपहर 2 बजे एक Bus पोलैंड के बॉर्डर पर छात्रों को छोड़ने के लिए शहर से रवाना हुई तो कोएना और कुशाग्र उस Bus से आने के लिए तैयार हो गए। लेकिन परिजनों ने उन्हें सरकारी एडवाइजरी आने तक शहर में ही रुकने के लिए कहा।

इसके बाद यह दोनों 2 बजे जाने वाली Bus से शहर नहीं छोड़ पाए। रात 8 बजे तक उनकी कोई व्यवस्था नहीं हो सकी तो परेशानी और बढ़ गई। लीविव शहर में रात 10 बजे से सुबह 7 बजे तक कर्फ्यू की घोषणा हुई तो परिजनों में घबराहट फैल गई और उन्होंने फोन पर बात करने के बाद रात 9 बजे पोलैंड के बॉर्डर पर जाने वाली प्राइवेट Bus से कोयना और कुशाग्र को रवाना होने की सहमति प्रदान कर दी। कोयना के पिता विवेक यादव ने बताया पूरा परिवार कोयना की सुरक्षा के लिए चिंतित है।

कोयना ने फोन पर जानकारी दी है कि जहां पोलैंड के बॉर्डर पर Bus छोड़ेगी वहां से 10 किलोमीटर सभी छात्र छात्राओं को पैदल आगे जाना होगा। इसके बाद ही उन्हें भारत आने के लिए दिशा निर्देश मिलेंगे। पिता विवेक यादव ने बताया कि देर रात 11 बजे के करीब कोयना और कुशाग्र पोलैंड के बॉर्डर पर पहुंच जाएंगे। ऐसी जानकारी दी गई है।

यह भी पढ़ें – Delhi के स्कूलों में लागू हुआ Dress Code, धार्मिक पोशाक पहनने पर सख़्त रोक

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है