Ukraine Russia War टूट गई मां बाप की आस, बेटा कभी नहीं लौटेगा उनके पास

0
217

कहते है कुछ बनना है तो सपना देखो लेकिन कभी कभी कुछ बनने का सपना इंसान को बहुत भारी पड़ जाता है। रूस और Ukraine के बीच छिड़ी जंग का सीधा असर भारत पर भी दिखने लगा है। Ukraine में छिड़ी जंग में एक भारतीय छात्र की मौत हो गई है। मृतक छात्र की पहचान कर्नाटक के रहने वाले नवीन के तौर पर हुई है।

Ukraine में 20,000 के करीब भारतीय रहते हैं। इनमें से ज्यादा लोग छात्र हैं, जो मेडिकल एवं अन्य कोर्स की पढ़ाई के लिए Ukraine में रह रहे थे। Ukraine और रूस में जंग के बाद से अब तक करीब 10,000 भारतीय स्वदेश लौट चुके हैं। इनमें से 8,000 लोग खुद से वापस लौटे हैं, जबकि 1,500 लोगों को भारत सरकार के प्रयासों से लाया गया है। इस बीच विदेश मंत्रालय की ओर से Ukraine की राजधानी कीव में रह रहे भारतीयों को एक बार फिर से चेतावनी जारी गई है। Ukraine स्थित दूतावास ने भारतीयों को एडवाइजरी जारी की है कि वे तत्काल कीव छोड़ दें और किसी भी साधन से बाहर निकलें। बताया गया है कि कर्नाटक का रहने वाला नवीन गवर्नर हाउस के पास कुछ अन्य लोगों के साथ खाने का सामान लेने के लिए स्टोर के पास खड़ा था, उसी वक्त वह रूसी सैनिकों की गोलीबारी की चपेट में आ गया।

भारतीय छात्रों की ओर से दूतावास से मदद की गुहार लगाई गई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची की ओर से भी छात्र की मौत की पुष्टि की गई है। अरिंदम ने ट्वीट कर कहा, ‘हम बेहद दुख के साथ इस बात की पुष्टि करते हैं कि एक भारतीय छात्र को खारकीव में आज सुबह गोलीबारी में अपनी जान गंवानी पड़ी है। मंत्रालय मृतक छात्र के परिवार के संपर्क में है।’ अब तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि किसकी ओर से किए गए हमले में नवीन की मौत हुई है।

कीव को रूस की सेना ने घेर लिया है। 64 किलोमीटर लंबा रूसी सेना का काफिला राजधानी के बाहर डटा हुआ है। कहा जा रहा है कि किसी भी वक्त रूस की ओर से कीव पर अब बड़ा हमला किया जा सकता है। ऐसे में कीव को छोड़ना ही लोगों के लिए बेहतर माना जा रहा है। मंत्रालय ने कहा कि इस दुखद घटना को लेकर हम परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं और सहानुभूति रखते हैं। यही नहीं उन्होंने कहा कि विदेश सचिव की ओर से रूस और Ukraine के राजदूतों को समन जारी किया गया है। दोनों देशों से मांग की गई है कि भारतीय छात्रों की सुरक्षित निकासी की व्यवस्था की जाए। खारकीव और अन्य शहरों में अब भी कुछ भारतीय छात्र फंसे हुए हैं और उन्हें निकालने के लिए सरकार की ओर से प्रयास तेज कर दिए गए हैं। PM Modi की ओर से आज वायुसेना को भी ऑपरेशन गंगा में शामिल होने का आदेश दिया गया है। इंडियन एयरफोर्स के सी-17 ग्लोबमास्टर विमान Ukraine में फंसे भारतीयों की निकासी के काम में लगेंगे।

यह भी पढ़ें – नई एडवाइज़री, भारतीयों के पास Ukraine छोड़ने के लिए कुछ ही घंटों का वक़्त

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है