टूटने के बाद भी ख़तरनाक बना हुआ है ‘Twin Tower’

0
172

देखते ही देखते सालों में बन कर तैयार हुए ‘Twin Tower’ ध्वस्त हो गए। पूरी सावधानी के साथ Twin Tower को गिराया गया जिससे आस पास के अपार्टमेंट को कोई नुकसान न पहुंचें। लेकिन ये बात आप भी नहीं जानते हैं कि टूटने के बाद भी Twin Tower ख़तरनाक बना हुआ है। Twin Tower के ध्वस्तीकरण के बाद उत्पन्न हुआ Air Pollution सोमवार(29 अगस्त) को लगभग एक घंटे हुई बारिश से धुल गया। खासकर विस्फोटकों से उत्पन्न हुई कई तरह की ऑक्साइड खत्म हो गई हैं।

Air Pollution जानकारों के अनुसार बारिश ने बड़ी राहत दी है, नहीं तो कम से कम एक सप्ताह तक आसपास के क्षेत्रों में इसका असर रहता। इससे सांस के रोगियों सहित सामान्य लोगों को परेशानी हो सकती थी। हानिकारक गैस डेढ़ से दो किलोमीटर, धूलकण 10 किलोमीटर तक फैल गए थे।

Air Pollution विशेषज्ञ (बायोटेक इंजीनियर आईआईटी दिल्ली, रिसर्चर एयर पॉल्यूशन) सचिन पंवार ने बताया कि Twin Tower ध्वस्तीकरण के बाद Air Pollution चिंता का विषय था, लेकिन बारिश ने इसे खत्म कर दिया है। खासकर डायनामाइट से उत्पन्न हुई हानिकारक गैस खत्म हो गई है। ब्लास्ट के बाद से नाइट्रोजन डाईऑक्साइड (ठड2), नाइट्रिक ऑक्साइड (ठड), कार्बन मोनोऑक्साइड (उड), सल्फर ऑक्साइड आदि उत्पन्न हो सकते हैं। Twin Tower को गिराने के बाद कौन सी गैस निकली, यह विस्फोटक किससे बना उसपर निर्भर करता है।

ये हानिकारक गैस ध्वस्तीकरण की जगह से डेढ़ से दो किलोमीटर तक फैली हुई थी। बारिश नहीं होने की स्थिति में यह सात से दस दिनों तक वातावरण में रहती। वहीं, Pollution Control Board के क्षेत्रीय अधिकारी प्रवीण कुमार बताते हैं कि ध्वस्तीकरण के बाद एक किलोमीटर के क्षेत्र में Air Pollution काफी बढ़ा, लेकिन 15 घंटे के बाद यह कम होने लगा। बारिश ने ध्वस्तीकरण से होने वाला प्रदूषण खत्म हो गया है।

बारिश के बाद पीएम 10 और पीएम 2.5 के कण भी खत्म हो गए हैं। सचिन पंवार बताते हैं कि Air Pollution के लिए जिम्मेदार कण सोमवार तक 10 किलोमीटर तक फैल गए थे। जहां जहां ये कण गए वहां पहले के मुकाबले डेढ़ गुणा Air Pollution बढ़ गया। बारिश ने इन प्रदूषित कणों से भी राहत दे दी है। ये कण सांस रोगियों की मुश्किलें बढ़ा सकता था।

यह भी पढ़ें – Kejriwal से खफ़ा होकर बोले Anna, – CM बनने के बाद, आदर्श विचारधारा को भूल गए हैं

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है