आज भी देश में बहुत से लोग Roadways Bus से सफर करते हैं। बहुत सी जगह ट्रेन नही जा पाती है जिस वजह से Bus से सफर करना ही एक मात्र सहारा होता है। लेकिन अब Roadways Buses से सफर करना कितना सुरक्षित है ये जानकर आपकी सांसे अटक सकती हैं।

Uttarakhand Roadways में Buses के टायरों को रिट्रीड करने के लिए खरीदी जा रही रबर की गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे हैं। कर्मचारी नेताओं का कहना है कि पहाड़ी रूट पर इस रबर से रिट्रीड टायर दो सप्ताह में ही घिसते जा रहे हैं। बसों के टायर बार-बार बदलने पड़ रहे हैं। Buses के नए टायर घिसने के बाद Roadways उन टायरों पर रबर चढ़ाकर रिट्रीड करता है। अधिकांश Buses रिट्रीड टायरों के भरोसे चल रही हैं। नियमानुसार रिट्रीड के बाद टायर पहाड़ी रूट पर 10 से 12 हजार किमी चलना चाहिए।

वर्तमान में जिस रबर से टायरों को रिट्रीड किया जा रहा है, उससे 3500 से 4000 किमी चलने पर ही टायर घिसते जा रहे हैं। अधिकांश बसों के टायर डेढ़ से दो सप्ताह के भीतर घिस रहे हैं। Roadways कर्मचारी संयुक्त परिषद के क्षेत्रीय अध्यक्ष मेजपाल सिंह का कहना है कि रबर की गुणवत्ता बहुत खराब है। टायर बहुत कम समय में घिस रहे हैं। टायर बदलने के लिए बसों को कार्यशाला भेजना पड़ता है। ऐसे में कई रूटों की Buses एक से तीन घंटे तक लेट हो जाती हैं।

पहाड़ी रूट की Buses पर आगे रिट्रीड टायर नहीं लगाए जा सकते। क्योंकि, इससे दुर्घटना का खतरा बढ़ जाता है, लेकिन Roadways में नियमों को दरकिनार कर Buses के आगे भी रिट्रीड टायर लग रहे हैं। और तो और, आरटीओ से भी ऐसी Buses को फिटनेस प्रमाण मिल जाता है। किसी भी रूट पर ऐसी Buses के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती।

Roadways में नए टायरों की भारी कमी बनी हुई है। पर्वतीय डिपो में 16 और ग्रामीण डिपो में 14 Buses टायरों के अभाव में खड़ी हैं। इस कारण कई रूटों पर Buses नहीं चल पा रही हैं, जिस कारण यात्रियों को परेशानी हो रही है। त्योहारी सीजन में Buses के टायर और Parts के अभाव में बसें खड़ी रहना Roadways के लिए भी घाटे का सौदा बन रहा है। Roadways में नए टायरों की कमी बनी हुई है।

रबर की खरीद के लिए मुख्यालय स्तर से टेंडर होने थे, लेकिन अभी तक नहीं हुए। मुख्यालय की अनुमति पर बाजार से दूसरी कंपनी की रबर खरीदी जा रही है, इसकी गुणवत्ता ठीक है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है