Afghanistan में लगातार हालात ख़राब होते ही जा रहे हैं। लगातार हो रही हिंसा के बाद भारत अब Afghanistan में कॉन्सुलेट में कार्यरत भारतीय कर्मचारियों को वापस लाएगा। Afghanistan के मजार-ए-शरीफ शहर में स्थित कॉन्सुलेट में कुछ अधिकारी और कुछ अन्य भारतीय अभी मौजूद हैं। अब इन सभी को वहां से निकाला जाएगा।

Indian Air Force Afghanistan के मजार-ए-शरीफ शहर में रह रहे लोगों को बाहर निकालेगी। मजार-ए-शरीफ Afghanistan का वो शहर है जहां अंतिम भारतीय वाणिज्य दूतावास मौजूद हैं। इस शहर में बसे सभी भारतीय लोगों को अब भारतीय वायुसेना वहां से निकालेगी।

Afghanistan में तालिबान के बढ़ते वर्चस्व को देखते हुए भारत सरकार ने ये फैसला लिया है कि भारत के सभी कर्मचारियों, अधिकारियों को मज़ार-ए-शरीफ से वापस बुलाया जाएगा। मज़ार-ए-शरीफ में मौजूद भारतीय दूतावास की ओर से जानकारी दी गई है कि मंगलवार शाम को मजार-ए-शरीफ से एक स्पेशल फ्लाइट नई दिल्ली के लिए रवाना होगी। जो भी भारतीय आसपास हैं, वह शाम की फ्लाइट से नई दिल्ली के लिए रवाना हो जाए। जो जानकारी भारत की तरफ से दी गई है उसमें कहा गया है कि जिस भी भारतीय को नई दिल्ली रवाना होना है, वह तुरंत अपना पूरा नाम, पासपोर्ट नंबर और अन्य जानकारी व्हाट्सएप पर भेज दें। इसके साथ ही दो नंबर भी दिए गए हैं, वो नंबर हैं- 0785891303, 0785891301

Afghanistan में लगातार लहराब होते सुरक्षा हालात और तालिबान हमलों के मद्देनजर भारत पहले ही कंधार के वाणिज्यिक दूतावास से अपने राजनयिकों और स्टाफ को वापस लौटा चुका है। साथ ही सुरक्षा आंकलनों के मद्देनजर ही हेरात और जलालाबाद के वाणिज्य दूतावासों से अपने स्टाफ को लौटा कर वहां कामकाज अस्थाई तौर पर बंद कर चुका है। इस बीच सरकार ने संकेत दिए हैं कि Afghanistan के अल्पसंख्यक हिन्दू और सिख भी अगर सुरक्षित पनाह के लिए अस्थाई तौर पर भारत आना चाहेंगे तो उनकी पूरी मदद की जाएगी। हालांकि सरकारी सूत्रों ने साफ किया कि अभी तक किसी विशेष निकासी अभियान या उड़ानों की कोई योजना नहीं है क्योंकि Afghanistan के काबुल एयरपोर्ट से व्यावसायिक उड़ानों की आवाजाही जारी है।

यह भी पढ़ें: वैज्ञानिकों का दावा, Super Vaccine का फॉर्मूला Corona के हर Variant को देगा मात

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है