इस देश में कभी कोई मुस्लिम वोट बैंक नहीं था और न ही होगा : Asaduddin Owaisi 

0
323

दुनिया में न जाने कितनी चीज़े हैं जिनके बारें में सोचना या बात करना चाहिए लेकिन भारत में हिंदू मुसलमान का मुद्दा एक ऐसा विषय है जिसे नेता लोग हर चीज़ से ज़्यादा ज़रूरी समझते हैं। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख Asaduddin Owaisi ने ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वेक्षण पर फिर मुस्लिम कार्ड खेला है।

एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए Asaduddin Owaisi ने कहा कि भारत में कभी भी मुस्लिम वोट बैंक नहीं था और समुदाय कभी भी देश के शासन नहीं बदल सकता है। अगर ऐसा होता तो बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का आदेश आया वो नहीं हो पाता और अब ज्ञानवापी मस्जिद का मुद्दा सामने आया है। दरअसल, Asaduddin Owaisi की यह टिप्पणी वाराणसी की अदालत द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वेक्षण की अनुमति देने के संदर्भ में आई है। अधिकारियों ने काशी विश्वनाथ मंदिर के बगल में स्थित मस्जिद में अदालत द्वारा अनिवार्य सर्वेक्षण शुरू दिया है।

ऐसा पहली बार नहीं है जब Asaduddin Owaisi ने मुस्लिम वोटों पर बात की है। उत्तर प्रदेश चुनाव प्रचार के दौरान Owaisi ने मुसलमानों से वोट देने वाले के बजाय ‘वोट आकर्षित करने वाले’ बनने का आग्रह किया था। उन्होंने प्रयागराज में एक रैली के दौरान कहा था, “समाजवादी पार्टी (सपा) ने हमेशा मुसलमानों को उनके वोट के लिए इस्तेमाल किया है और उनके अधिकारों और विकास के लिए कभी काम नहीं किया है।”

Asaduddin Owaisi ने कहा, “मुसलमान देश में शासन नहीं बदल सकते। आपको गुमराह किया गया है। मुसलमान हमेशा सोचते थे कि वे वोट बैंक हैं। लेकिन यह सच नहीं है, इस देश में कभी कोई मुस्लिम वोट बैंक नहीं था और न ही होगा।” उन्होंने आगे कहा “भारत में एक बहुसंख्यक वोट बैंक रहा है और रहेगा। अगर हम एक शासन बदल सकते हैं, तो संसद में मुसलमानों का प्रतिनिधित्व कम क्यों होगा? अगर हम सरकार बदल सके… तो बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का आदेश आया और अब ज्ञानवापी मस्जिद का मुद्दा सामने आया है।”

Asaduddin Owaisi ने कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी पर मुसलमानों को धोखा देने का भी आरोप लगाया। ओवैसी ने ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वेक्षण पर वाराणसी की अदालत के फैसले को पूजा स्थल अधिनियम 1991 का घोर उल्लंघन बताया था। कोर्ट के फैसले के दिन लोकसभा सांसद ने यह भी कहा था कि वह एक और मस्जिद नहीं खोना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें – Sunil Kumar Jakhar ने Congress से मुंह मोड़ा

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है