शादी हुई संपन्न लेकिन Dulhan ने दूल्हे संग जाने से किया इंकार

0
217

हर लड़की ने अपने पति को लेकर कुछ सपने देखे होते हैं कि उसका पति राजकुमार जैसा होगा लेकिन जब कभी ये सपना टूटता है तो तबाही आती है कुछ ऐसा ही वाराणसी में भी देखने को मिला जहां Dulhan ने दूल्हे को देखते ही ससुराल जाने से कर दिया इंकार।

वाराणसी के चौबेपुर क्षेत्र में रविवार(5 जून) की रात बड़े ही धूमधाम से बारात पहुंची। जयमाल के बाद हिंदू धर्म के रिति रिवाज वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विधिवत सिन्दूर दान कराकर शादी रचाई गई। लेकिन सोमवार(6 जून) की सुबह जब विदाई के लिए तैयारी शुरू हुई तो Dulhan ने उम्रदराज दूल्हा के साथ जाने से इंकार कर दिया। मामला थाने पहुंचा दोनों पक्षों से घंटों पंचायत की गई लेकिन दुल्हन के ज़िद पर चंद घंटों बने रिश्ते टूट गया।

जानें, पूरा मामला

चौबेपुर के कादीपुर खुर्द गांव निवासी राजा बाबू चौहान की बेटी काजल की शादी साकेत नगर संकटमोचन वाराणसी निवासी स्व प्रभु चौहान के बेटे संजय चौहान के साथ 5 जून (रविवार) को तय हुई। बारात भी धूम धाम से आई घरातियों ने सामर्थ के अनुसार बारात का गर्म जोशी से स्वागत किया। द्वारचार, जयमाल के बाद हिंदू धर्म से सिंदूर दान कर दुल्हा-दुल्हन ने साथ जीने मरने की कसमें भी खाई। लेकिन भगवान को कुछ और ही मंज़ूर था। 6 जून की सुबह जब विदाई की तैयारी होने लगी दहेज का सारा सामान ट्रैक्टर पर भी लद गया तभी दुल्हन ने उम्रदराज दूल्हा के साथ जाने से इंकार कर दिया।

इस पर वर पक्ष व कन्या पक्ष दोनों में कहासुनी होने लगी मामला थाने पहुंचा। थानाध्यक्ष अनिल मिश्रा ने दोनों पक्षों से बैठकर आपसी हल निकालवाने का प्रयास किया। घंटों पंचायत होती रही लेकिन दुल्हन के जिद के आगे सभी ने घुटने टेक दिए। अंततः शादी के कुछ घंटे बाद ही पति-पत्नी का रिश्ता टूट गया। इस घटना की पूरे इलाके में चर्चा होती रही।

यह भी पढ़ें – उफ़ ये Garmi, अफ्रीकी खिलाड़ी ने ट्वीट करके लिखा, लोग कैसे जिंदा रहते हैं

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है