मुसीबत में देश की लड़कियां, Shaadi की उम्र 21 करने के प्रस्ताव से हो रहीं रिकॉर्ड शादियां

0
297

देश में बेटियां आगे बढ़ सकें इसके लिए लगातार कोशिश की जा रही है। केंद्र की Narendra Modi सरकार लड़कियों की Shaadi की उम्र 18 साल से बढ़ाकर 21 साल करने की तैयारी में है। इसको लेकर सदन में जल्द ही विधेयक भी ला सकती है। सरकार के इस फैसले के बाद मेवात इलाके में हड़कंप मचा हुआ है और लड़कियों के लिए नई मुसीबत खड़ी हो गई है।

विवाह योग्य उम्र बढ़ाने के लिए हरियाणा में अभियान की अगुवाई करने वाले सुनील जगलान ने कहा, “विडंबना यह है कि नूंह की लड़कियों ने Shaadi योग्य आयु में वृद्धि की मांग को लेकर एक अभियान में सक्रिय रूप से भाग लिया था। माता-पिता को अपनी लड़कियों को Shaadi के लिए भागता हुआ देख, हम चाहते हैं कि इस तरह के विवाहों का पंजीकरण कानून पारित होने तक रोक दिया जाए।” गुरुवार(16 दिसंबर) को सरकार की घोषणा के बाद से कोर्ट मैरिज में भी तेज़ी आई है। गुरुग्राम में Court Marriage करने वाले अंतर्जातीय जोड़ों की संख्या सप्ताहांत में 4 गुना बढ़ गई। दो स्थानीय वकीलों ने इसका खुलासा किया।

जानें, पूरा मामला

18 साल की सफीना अहमद (बदला हुआ नाम) की कहानी इसकी गवाही दे रही है। सफीना अपने कॉलेज में क्रिसमस सेलिब्रेशन के लिए एक परफेक्ट सलवार-कमीज खरीद रही थी। उसे क्या पता था कि इसके बजाय उसे एक Shaadi “शरारा” चुननी होगी। उसने कहा, “जब मैं पांच साल की थी, तब मुझे पता था कि मेरा पति कौन होगा। वह मेरी चाची का रिश्तेदार है। मैं उसकी तुलना में अधिक उदार और शिक्षित परिवार से हूं। अपने परिवार में दिल्ली विश्वविद्यालय जाने वाला पहला व्यक्ति हूं।” उन्होंने कहा, ”मुझे हॉस्टल में रहने दिया गया और शादी के बारे में कभी बात नहीं की गई। हालांकि शुक्रवार को जब मैं अपनी मां के साथ खरीदारी करने के लिए निकली थी, तो मेरे पिता ने फोन किया और अचानक मेरी मां ने सलवार-कमीज़ अलग रख दी और दुल्हन के गरारा की तलाश शुरू कर दी।”

इस क्षेत्र में 18 से 20 वर्ष की आयु की लड़कियों की इस सप्ताह के अंत में सैकड़ों शादियां हुईं। नूह के एक इमाम मुश्ताक कहते हैं, “मेरे पास ऐसे दूल्हों के आवेदन काफी हैं, जो दो दिनों के भीतर शादी करने के लिए तैयार हैं। हम नमाज के दौरान ये घोषणाएं कर रहे हैं।”

फिरोजपुर झिरका की किशोरी कहती है, “मैं चौंक गई। जब हम घर पहुंचे, तो मुझे बताया गया कि महिलाओं की Shaadi की उम्र 21 साल करने के लिए एक नया कानून बनाया जा रहा है। मेरा परिवार जल्दी में मेरी Shaadi कराना चाहता है। उन्हें इस बात का डर है कि लड़का और उसका परिवार 3 साल और इंतज़ार नहीं करेगा। शादी अब सोमवार के लिए तय की गई है।” सफीना की कहानी अकेली नहीं है। महिलाओं की Shaadi की उम्र बढ़ाने वाले विधेयक को सरकार की मंजूरी ने मुस्लिम बहुल मेवात क्षेत्र, विशेष रूप से नूंह जिले में कई लोगों को परेशान कर दिया है। यहां आमतौर पर लड़कियों की Shaadi जल्दी कर दी जाती है। नूंह देश के सबसे पिछड़े जिलों में से एक है।

यह भी पढ़ें – अब 18 की उम्र में नहीं होगी लड़कियों की Shaadi, संसद में पेश होगा बिल

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है