पोस्ट कोविड मरीजों में फंगस (fungus) जबड़ा खराब कर रहा है. गाजियाबाद में करीब 12 मरीजों में इस तरह के लक्षण देखने के बाद उनकी सर्जरी करनी पड़ी है. इनमें से ज्याादातर मरीज ऐसे हैं, जिनका शुगर (Sugar) बहुत अधिक बढ़ा हुआ है. इन पोस्टप कोविड मरीजों को तीन से चार माह पहले कोरोना हुआ था और लक्षण समझ नहीं पाए, जिस वजह से ऐसे मरीजों का आधा जबड़ा हटाना पडा. इस संबंध में ईएनटी विशेषज्ञ का कहना है कि लक्षण दिखते ही तुंरत डॉक्टवर से संपर्क शुरू इलाज शुरू कराएं.

गाजियाबाद के एक हास्पिटल के निदेशक बताते हैं कि उनके अस्पताल में अब तक fungus के 58 मरीजों का उपचार किया जा चुका है. जिले में सबसे अधिक फंगस मरीजों का उपचार इसी हास्पिटल में हुआ है. हास्पिटल में आए 58 मरीजों में से 36 मरीजों में नाक और आंख में फंगस पाया गया है. हाल ही में12 पोस्टह कोविड मरीज ऐसे आए हैं, जिनका जबड़ा फंगस की वजह से गल गया था. एक मरीज की सिर की हड्डी फंगस पहुंच चुका था और इस वजह से सिर की हड्डी गल चुकी थी.

उन्हों ने बताया कि जबड़े और खोपड़ी तक फंगस पोस्टे कोविड मरीजों की लापरवाही से फैल रहा है. लोग इसे सामान्यस रूप में ले रहे हैं और शुरुआत में दांत के डॉक्टटर से इलाज कराते हैं. जब ईएनटी डॉक्टजर के पास पहुंचते हैं तो देर हो चुकी होती है और fungus जबड़े तक फैल चुका होता है. मरीज की जान बचाने के लिए आधा जबड़ा हटाना पड़ता है. ऐसे मरीजों को 5 से 6 माह बाद दोबारा से कृतिम जबड़ा लगाया जाएगा. जबड़े में fungus उन्हींं पोस्टि कोविड मरीजों को हो रहा है, जिनका शुगर लेबर कंट्रोल नहीं हो पा रहा है. उन्होंने हाई शुगर वाले पोस्टस कोविड मरीजों को सलाह दी है कि वे अपना शुगर लेबल न बढ़ने दें, इसे पूरी तरह कंट्रोल में रखें.जबड़े फंगस होने पर दांत हिलने लगता है. मसूढ़ों में दाने पड़ जाते हैं.एक के बाद दूसरे दांत भी हिलने लगते हैं. जबड़े में दर्द होने लगता है. संक्रमण अधिक होने पर आंखों में सूजन आ जाती है.

यह भी पढ़ें: Muharram पर इमाम हुसैन की याद में नम हुईं लोगों की आंखें

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है