सरकार बनाएं पिछड़े और मलाई खाएं अगड़े, यह नहीं चलेगा : Swami Prasad Maurya

0
283

इन दिनों चुनाव आने से पहले नेताओं का पार्टी छोड़ने और नई पार्टी में शामिल होने का सिलसिला जारी है। उत्तर प्रदेश की Yogi Adityanath(BJP) सरकार में श्रम मंत्री के पद से इस्तीफा देने वाले Swami Prasad Maurya आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। कुछ दिनों पहले ही अटकलें लगाई जा रही थी कि Swami Prasad Maurya समाजवादी पार्टी में शामिल होने वाले हैं लेकिन इस बात से उन्होंने तब इंकार कर दिया था।

सपा में शामिल होते ही Swami Prasad Maurya ने BJP के साथ ही बसपा पर भी हमला बोला, जिससे वह लंबे वक़्त तक जुड़े रहे थे। एक दौर में वह मायावती के करीबी नेताओं में से एक थे, लेकिन उन्होंने उन पर भी तीखा हमला बोला। Swami Prasad Maurya ने कहा, ‘हम जिसका साथ छोड़ देते हैं, उसका कहीं पता नहीं चलता। मायावती इसकी जिंदा मिसाल हैं। वह आंबेडकर के मिशन से हट गईं। मान्यवर कांशीराम के आंख मूंदते ही नारा बदल दिया था। बहन मायावती ने उनके नारे ‘जिसकी जितनी भागीदारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी को बदल दिया। उन्होंने नया नारा दिया- जिसकी जितनी तैयारी, उसकी उतनी भागीदारी।’

Swami Prasad Maurya ने कहा, ‘आज भारतीय जनता पार्टी(BJP) के वो बड़े-बड़े नेता जो कुंभकर्णी नींद सो रहे थे, उनकी नींद हमारे इस्तीफों के बाद हराम हो गई है। इसके साथ ही BJP के कुछ लोग कहते हैं कि 5 साल तक क्यों नहीं इस्तीफा दिया। कुछ बददिमाग लोग यह भी कहते हैं कि बेटे के चक्कर में BJP छोड़ दी। मैं ऐसे लोगों से कहना चाहता हूं कि BJP के लोगों ने इस देश के गरीबों, मजलूमों, दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों की आंखों में धूल झोंककर सत्ता हथियाई थी।’ यही नहीं पिछड़ी बिरादरी के नेता के तौर पर खुद को स्थापित करने की कोशिश में जुटे स्वामी ने कहा, ‘भले में ही मैंने पार्टी नहीं बनाई है, लेकिन किसी भी पार्टी से कम नहीं हैं।’

Swami Prasad Maurya ने साफ संकेत दिया कि वह इस चुनाव को अगड़ा बनाम पिछड़ा बनाने की कोशिश में हैं। Swami Prasad Maurya ने कहा, ‘यह BJP केशव प्रसाद मौर्य और Swami Prasad Maurya का नाम उछालकर पिछड़ों के बूते सत्ता में आई थी। BJP ने चर्चा की थी कि Swami Prasad Maurya या केशव प्रसाद सीएम होंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, गोरखपुर से नेता को लाकर सीएम बना दिया और पिछड़ों की आंखों में धूल झोंक दी। आज सरकार बनाएं अल्पसंख्यक और पिछड़े और मलाई खाएं, वे 5 फीसदी अगड़े।’

CM Yogi के बयान पर हमला बोलते हुए Swami Prasad Maurya ने कहा कि लड़ाई 80 बनाम 20 की नहीं है बल्कि 85 बनाम 15 की है। हम तो कहते हैं कि 85 तो हमारा है, 15 में भी बंटवारा है। यदि आप हिंदुओं के हमदर्द हैं तो फिर पिछड़ों, अनुसूचित जाति और जनजाति के आरक्षण पर क्यों डाका डालते हो। अभी-अभी 69 हजार शिक्षकों की भर्ती हुई। इनमें से 19 हजार ओबीसी और दलित सीटों पर सामान्य वर्ग के लोगों को ही नियुक्ति पत्र दे दिया। BJP लीडरशिप पर अटैक करते हुए कहा कि आपके पास जितने दांव हैं लगा लो। लेकिन मैं आपको पटकनी जरूर दूंगा और BJP को खत्म करके रहूंगा। अब UP को आपके शोषण से मुक्त कराने का वक्त आ गया है।

यह भी पढ़ें – UP Election 2022: Swami Prasad Maurya ने छोड़ा BJP साथ, साइकिल पर हुए सवार!

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है