ख़ुशनुमा कुदरत के मिज़ाज के रहमों करम को देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी हुई है। मुस्लिम कमेटी के लोगों ने दूसरी कब्रगाह खुदवाकर शव को दफनाया है।

बांदा जिले के बबेरू कस्बे से हैरतअंगेज़ कुदरत का करिश्मा, आश्चर्यचकित कर देने वाला वाक़या सामने आया है, बता दें कि यहां 22 साल पहले कब्रगाह में दफनाया गया शव सही सलामत बेदाग कफ़न सहित निकला है। ख़ुशनुमा कुदरत के मिज़ाज के रहमों करम को देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी हुई है। मुस्लिम कमेटी के लोगों ने दूसरी कब्रगाह खुदवाकर शव को दफनाया है।

22 साल बाद कब्र से सही सलामत निकाला शव… बाँदा जिला के कस्बा बबेरू का कुदरत का हैरतअंगेज़ कारनामा देखने को मिला है। जहाँ नसीर अहमद पुत्र अलाउद्दीन निवासी कोर्रही, थाना बिसंडा  बबेरू में बाल काटने की दुकान चलाते थे। उनकी 22 वर्ष पूर्व 55 वर्ष की उम्र में मौत हुई थी। और बबेरू के अतर्रा रोड में घसिला तालाब के पास के कब्रिस्तान में उनको दफनाया गया था।

22 साल बाद कब्र से सही सलामत निकाला शव…

दुनिया की सबसे अमीर फैमली, जो कमाती है हर मिनट इतने लाख!

बीती 21 अगस्त 2019 को जलभराव के कारण उनके कब्र की मिट्टी कटने से जनाज़ा खुल गया था, लोगों ने देखा तो कब्रिस्तान कमेटी के लोगों को सूचना दी, सूचना मिलने पर पहुंची कमेटी के लोगो ने कब्र की पहचान करके नाम और पता बताया। हैरान कर देने वाली बात ये थी कि 22 साल से मिट्टी में दफन शव एक दम सही सलामत है जिसमें कोई भी खराबी नहीं है।

22 साल बाद कब्र से सही सलामत निकाला शव…

22 वर्ष के बाद जनाज़े का सलामत रहना और कफ़न का बेदाग होना बड़े अचरज की बात थी। इस कुदरत के करिश्मे को सुनकर क्षेत्र के सैकड़ों लोग देखने के लिए पहुंचे हैं। कमेटी के लोगों ने दूसरी कब्रिस्तान खोद कर शव को उसमें दफनाया।

9 महीने की मासूम के पेट से निकला कुछ ऐसा डॉक्टर भी हो गए हैरान….