SHO ने खोली Remand Home की घिनौनी सच्चाई

0
396

लोगों की असलियत तब तक सामने नहीं आती जब तक कोई दूसरा उसके राज़ से पर्दा न उठा दे। बिहार के बालिका सुधार गृह पर पहले से कई आरोप लगते रहे हैं। यहां पर सेक्स स्कैंडल से लेकर तरह तरह के मामले सामने आ चुके हैं। अब एक थानाध्यक्ष का ऐसा ऑडियो वायरल हो रहा है, जो इस बात की पुष्टि करता है कि बिहार के सुधार गृहों(Remand Home) की हालत बेहद ख़राब है। यहां की लड़कियों के साथ हर शाम क्या-क्या होता है, इसका इशारा भर किया गया है। ऑडियो वायरल होने के साथ ही थानाध्यक्ष को निलंबित भी कर दिया गया है। मामला बेतिया जिले के बैरिया का है।

जानें, पूरा मामला

बैरिया थाना क्षेत्र के एक गांव की नाबालिग लड़की और बालिग लड़का आपस में प्रेम करते थे और दोनों घर से भाग गए थे। 25 मार्च को लड़की के पिता ने अपहरण का आरोप बैरिया थाना के चौकीदार शम्भू साह के पुत्र सुधीर पर लगा था। परिजनों ने आवेदन दिया तो पुलिस ने आनाकानी करते हुए केस दर्ज नहीं किया। इसके बाद पीड़ित परिवार एसपी से मिला। इसके बाद केस दर्ज हुआ। पुलिस ने लड़की को बरामद कर लिया और न्यायालय में उसका बयान भी करवा लिया। परिजनों ने लड़की को अपने साथ नहीं ले जाना चाहते थे।

पुलिस की तरफ से जबरन लड़की को उसके घर भेजने के लिए दवाब बनाया जाने लगा। थानाध्यक्ष दुष्यंत कुमार ने इस दौरान Remand Home की हकीकत बताकर लड़की के घरवावों को डराने का प्रयास किया। वायरल ऑडियो में थानाध्‍यक्ष लड़की के परिजनों को नसीहत देते हुए बता रहे हैं कि Remand Home में लड़कियों के साथ अनैतिक काम होते हैं। हर शाम बड़ी बड़ी गाड़ियों से लड़कियों को बाहर भेजा जाता है।

दारोगा लड़की के परिजन को बताते हैं कि केस दर्ज होने के बाद मेरे हाथ में कुछ नहीं रहेगा। अभी वह 14 साल की है। चार साल तक Remand Home में रहेगी। 18 साल की होने पर उससे पूछा जाएगा कि कहां जाना चाहती है। चार साल तक हर शाम उसे बड़ी बड़ी गाड़ियों में बैठाकर भेज दिया जाएगा। पेपर में हमेशा निकलता है कि Remand Home में क्या होता है। रोज रात में नेता के साथ सोएगी। हम नहीं चाहते कि कोई लड़की Remand Home जाए। रिमांड होम की लड़की से कोई विवाह नहीं करना चाहता है। कानून दोधारी तलवार होता है। सही कटा तो सही नहीं कुछ भी हो सकता है। लड़की के परिजनों ने ही थानाध्यक्ष का ऑडियो रिकॉर्ड कर उसे सोशल मीडिया में वायरल कर दिया। ऑडियो वायरल होते ही एसपी ने मामले की जांच एसडीपीओ सदर मुकुल परिमल पांडेय से करवाई। जांच में मामला सही पाया गया। इसके बाद पुलिस अधीक्षक ने कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया।

यह भी पढ़ें – फिर महंगी हो गई CNG, 2.50 रुपये प्रति किलो हुई बढ़ोतरी

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है