7 सितंबर को चांद की समतल सतह पर Simpelius N और Manzinus C क्रेटर्स के बीच लैंडिंग की थी, दुर्भाग्यवश लैंडिंग सफल नहीं रही।

चंद्रयान 2 मिशन पर पूरी दुनिया की नज़र थी। ये काफी समय से चर्चा का विषय बना हुआ है। आपको बता दें कि चंद्रयान 2 भारत के लिए बहुत ही खास मिशन था क्योंकि अगर विक्रम लैंडर निश्चित की गयी जगह पर लैंड कर जाता तो भारत चंद्रमा के साउथ पोल पर पहुंचने वाला पहला देश होता।

चंद्रयान 2 के बाद अब ISRO की निगाहें मिशन गगनयान पर, जानिए चंद मिनटों में कैसे होगा मिशन पूरा।

Image result for vikram lander at moon

चंद्रयान 2 के तीन हिस्से थे। पहला ऑर्बिटर जो अभी भी चाँद के चक्कर लगा रहा है। दूसरा विक्रम लैंडर जिसे चाँद पर सॉफ्ट लैंडिंग करनी थी और उसमे से उसका तीसरा हिस्सा रोवर जिसको विक्रम लैंडर से निकल कर चाँद की सतह पर उतरना था। विक्रम लैंडर के चंद्रमा पर लैंड करने के सिर्फ 2.1 किलोमीटर पहले इसरो का उससे संपर्क टूट गया और इसरो के वैज्ञानिक अभी तक लैंडर से संपर्क बनाने की कोशिश में जुटे हुए है।

NBT

नासा के वैज्ञानिकों ने भी विक्रम लैंडर को ढूंढ़ने की काफी कोशिश कि। लगातार कोशिशों के बाद नासा के वैज्ञानिकों ने विक्रम लैंडर को ढूंढ़ने में असमर्थ रहे लेकिन उन्होंने ये ज़रूर पता लगाया है की विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग नही हो पाई है बल्कि उसकी हार्ड लैंडिंग हुई है। साथ ही कुछ तस्वीरें भी साझा कि है।

चंद्रयान 2 के चन्द्रमा पर उतरने से पहले ही अमेरिका ने कही थी बड़ी बात की भारत…

NBT

नासा के वैज्ञानिकों ने ये पता लगाया है कि चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर की हार्ड लैंडिंग हुई, यह स्पष्ट है और साथ ही ये भी बताया है कि स्पेसक्राफ्ट किस लोकेशन पर लैंड हुआ था। ‘चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम ने 7 सितंबर को चांद की समतल सतह पर Simpelius N और Manzinus C क्रेटर्स के बीच लैंडिंग की थी। दुर्भाग्यवश लैंडिंग सफल नहीं रही और स्पेसक्राफ्ट की लोकेशन की घोषणा नहीं की गई।

NBT

लैंडर इस वक़्त किस लोकेशन पर है यह अभी निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता, क्योकि नासा द्वारा साझा की गयी तस्वीरें केंद्र से 150 किलोमीटर दूरी से ली गई हैं। साथ ही वैज्ञानिकों ने ये भी कहा है की वे अक्टूबर में एक बार फिर कोशिश करेंगे। ये प्रयास सिर्फ अक्टूबर में ही इसलिए किया जाएगा क्योकि एलआरओ एक बार फिर लैंडिंग साइट के पास पहुंचने का प्रयास करेगा। 14 अक्टूबर को जब प्रकाश स्थिति अनुकूल होगी तो एक और कोशिश की जाएगी।