कोर्ट भी चाहता है कि बातचीत से हल निकले

केंद्र के कृषि कानूनों से जुड़ी हुई याचिकाओं पर सुनवाई करते वक्त सुप्रीम कोर्ट ने किसान प्रदर्शन को लेकर चिंता जताई है। CJI ने कहा कि हम हालात समझते हैं लेकिन हम ये चाहते हैं कि मामला बातचीत से सुलझ जाए। इसके साथ ही तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के खिलाफ एक औऱ याचिका दायर की गई है। CJI ने याचिका दाखिल करने वाले एमएल शर्मा से पूछा आपको पता है कोर्ट में किसान प्रदर्शन को लेकर क्या चल रहा है? एमएल शर्मा ने जवाब में कहा कि उन्होंने संशोधित याचिका दाखिल कर दी है।

खेत में काम कर रहे मजदूर की टाइगर हमले में मौत

इसके बाद CJI ने SG तुषार मेहता से पूछा कि किसान प्रदर्शन पर कब सुनवाई होनी है? इस पर तुषार मेहता ने कहा कि अभी तारीख तय नहीं हुई है। साथ ही यह भी  कहा कि दूसरे मामलों के साथ इसको मत सुनिए। CJI ने कहा हम इसको दूसरे मामलों के साथ इसलिए सुनना चाहते है कि क्योंकि प्रदर्शन को लेकर अभी तक कोई हल नहीं निकला है। अब सभी याचिकाओं पर 11 जनवरी को सुनवाई होगी। CJI ने कहा हम सभी मामलों पर एक साथ सोमवार को सुनवाई करेंगे। और अगर उस दिन अटॉर्नी जनरल मामले को टालने की मांग रखते है तो सुनवाई टाल दी जाएगी। कोर्ट भी चाहता है कि बातचीत से हल निकाला जाए।

CJI एस ए बोबडे ने कहा कि किसानों के विरोध के बारे में स्थिति में अभीतक कोई सुधार नहीं हुआ है। एजी के के वेणुगोपाल ने कहा कि इस बात की अच्छी संभावना है कि पार्टियां निकट भविष्य में किसी नतीजे पर पहुंच सकती हैं।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं