क्या आप जानते हैं, Sadhu का आम लोगों की तरह नहीं किया जाता है दाह संस्कार

0
118

हमेशा से ये देखा जाता रहा है कि हिंदू धर्म में दाह संस्कार में लोगों को जला दिया जाता है तो वहीं मुस्लिम धर्म में लाश को दफना दिया जाता है। ऐसे में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी को भू-समाधि दी गई है। जिसका मतलब उन्हें दफना दिया है। नरेंद्र गिरी को दफनाया क्यों गया है, ये सवाल आपके ज़हन में भी घूम रहा है तो ये लेख ज़रूर पढ़ें।

हर धर्म में अपनी अलग मान्यताएं होती हैं जिसके हिसाब से ही जन्म से लेकर मृत्यु तक इंसान सभी कार्यों को करता है। बता दें कि Sadhu को एक पवित्र आत्मा माना जाता है। हिंदू धर्म के मानने वाले लोग आत्मा के अस्तित्व में यकीन रखते हैं जो मृत्यु के बाद स्थानांतरित होती है। यह भी माना जाता है कि पुनर्जन्म तब ही होता है जब आत्मा किसी व्यक्ति के जीवन चक्र के दौरान सभी आसक्तियों से मुक्त हो जाती है।

Sadhu एवं संतों को लेकर यह मान्यता है कि वे भौतिक शरीर में ही तमाम आसक्तियों से मुक्त हो जाते हैं। ऐसे में दाह संस्कार के बिना भी उनकी आत्मा मुक्त हो जाती है।

इंसान की मृत्यु के वक्त शरीर मर जाता है, लेकिन आत्मा तब तक आसक्तियों में बनी रह सकती है जब तक कि नश्वर अवशेष भौतिक रूप में मौजूद न हो। हिंदू मान्यताओं के मुताबिक शरीर का अंतिम संस्कार करने से सांसारिक लगाव पूरी तरह से खत्म हो जाता है। इससे आत्मा को सांसारिक जरूरतों से मुक्त करने का रास्ता बनता है। बता दें कि एक संन्यासी सभी सांसारिक आसक्तियों और सुखों को त्याग कर ही संत बनता है। ऐसे किसी व्यक्ति की जब मृत्यु होती है तो यह माना जाता है कि संन्यासी भौतिक शरीर को छोड़ देता है और मृत्यु के बाद कपाल मोक्ष के जरिए अमरता को प्राप्त करता है। यह इस विश्वास पर आधारित है कि Sadhu -संतों का प्राण, एक दिव्य रास्ते के जरिए शरीर को छोड़ देता है।

यह भी पढ़ें: मालिक के घर में कितना भी रह लें, उस पर नहीं होगा आपका अधिकार: Supreme court

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है