बढ़ती महंगाई के इस दौर में हर इंसान कुछ पैसे बचाना चाहता है लेकिन किस तरह से पैसे बचाएं ये सोचकर घर का Fan नज़र आता है और हम उसकी Speed कम करके ये सोचते हैं कि अब बिजली का बिल कम आएगा लेकिन क्या हक़ीक़त में ऐसा करने से बिजली का बिल कम आता है। आज हम आपको यही बताने जा रहे हैं।

बिजली बचाने के लिए तरह-तरह के तरकीब अपनाई जाती हैं। लेकिन आज हम एक रोचक तथ्य के बारे में चर्चा कर रहे हैं। हम सभी के घरों में Fans होते हैं। हम अपनी जरूरत के हिसाब से उसकी स्पीड तेज या धीमी करते हैं। लेकिन, क्या Fan की रफ्तार तेज या धीमी करने से उसकी बिजली खपत पर कोई असर पड़ता है? आज हम इसी सवाल का जवाब ढूंढ़ने की कोशिश करते है।

घरों में सीलिंग Fan के साथ टेबल और पैडेस्टल फैन्स होते हैं। सीलिंग Fan की स्पीड को रेग्युलेटर से कंट्रोल किया जाता है, वहीं टेबल और पैडेस्टल Fans में इनबिल्ट स्पीड कंट्रोलर होते हैं। यहां सवाल यह है कि अगर आप स्पीड कम करते हैं तो क्या ये पंखे कम बिजली खपत करते हैं या फिर स्पीड बढ़ाने पर ये ज्यादा बिजली खपत करते हैं?

जानें क्या हैं इलेक्ट्रिकल रग्युलेटर – कुछ साल पहले तक हमारे घरों में इलेक्ट्रिकल रग्युलेटर का इस्तेमाल होता था, लेकिन अब हर जगह इलेक्ट्रिक रेग्युलेटर का इस्तेमाल किया जाता है। पहले जो इलेक्ट्रिक रेग्युलेटर इस्तेलाम किए जाते थे वो सस्ते होते थे। ऐसे रेग्युलेटर एक प्रतिरोधक के तौर पर काम करते थे। ये रेग्युलेटर Fan को सप्लाई किए जाने वाले वोल्टेज को घटाकर उसकी स्पीड कम कर देते थे। इस तरह Fan में तो बिजली की खपत कम होती थी लेकिन रेग्युलेटर जो एक प्रतिरोधक के तौर पर काम करता था उसमें उतनी ही बिजली जाती थी। इस तरह पुराने रेग्युलेटर के साथ Fan की स्पीड कम करने से बिजली की बचत पर कोई खास असर नहीं पड़ता था।

जानें क्या हैं इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर – दूसरी तरफ, इन दिनों इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर के बारे में बात करते हैं। इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर का रिजल्ट काफी अच्छा है। अगर आप अपने घरों में इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर का इस्तेमाल करते हैं तो निश्चित तौर पर आपके बिजली बिल पर असर पड़ेगा। इन इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर के जरिए आप अपने Fan की टॉप स्पीड और उसकी निम्न स्पीड के बीच 30 से 40 फीसदी तक बिजली की बचत कर सकते हैं। यानी इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर वाले Fan स्पीड कम या ज्यादा करने के हिसाब से बिजली की खपत करते हैं।

नए इलेक्ट्रॉनिक रेग्युलेटर में ऊर्जा खपत का पैटर्न पंखे की स्पीड से तय होता है। इसके साथ आप जितनी स्पीड से Fan चलाएंगे वो उतनी अधिक बिजली की खपत करेगा। इसी तरह कम स्पीड से पंखा चलाने पर वह कम बिजली की खपत करेगा।

एक मध्यवर्गीय भारतीय परिवार में औसतन 4 Fan होते हैं। अगर इन चारों Fans को सबसे तेज मोड में चलाते हैं तो आप एक दिन करीब 5 यूनिट बिजली की खपत करेंगे। इसमें आप स्पीड को नियंत्रित कर हर रोज एक से डेढ़ यूनिट बिजली बचा सकते हैं।

आपके लिए यह जानना जरूरी है कि एक दिन में एक Fan कितनी बिजली की खपत करता है। इन दिनों बाजार में 60 वाट के Fan चल रहे हैं। अगर एक 60 वाट का Fan एक दिन में 18 घंटे चलता है तो यह 1080 वाट बिजली की खपत करता है। इस तरह यह एक दिन में एक यूनिट से थोड़ी अधिक बिजली की खपत करता है। वैसे यह एक Fan की बात हो रही है।

यह भी पढ़ें: 12 दिन में दूसरी बार फिर से बढ़ गए CNG-PNG के दाम

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है