सीएम अशोक गहलोत के करीबियों के यहां आयकर विभाग को मिला करोड़ों का कैश

राजस्थान में एक तरफ जहां कुर्सी बचाने की जद्दोजहद चल रही है वहीं इसी बीच आयकर विभाग ने राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के करीबियों के यहां कुछ दिन पहले जो छापेमारी की थी उसमें करीब 12 करोड़ कैश मिला है और 1 करोड़ 70 लाख के गहने मिले हैं।

अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत के करीबी धर्मेंद्र राठौर को भी आयकर विभाग ने नोटिस भेजा है। बता दें कि राजीव अरोड़ा ,सुनील कोठरी और रतनकांत शर्मा के यहां ये छापेमारी हुई थी। तीनों को आईटी एक्ट के तहत नोटिस जारी किया गया है और इनसे अगले हफ्ते पूछताछ की जाएगी। यह छापेमारी उस दिन हुई थी जिस दिन राजस्थान की राजनीति में सीएम अशोक गहलोत और उस दिन तक डिप्टी सीएम की कुर्सी पर काबिज सचिन पायलट के बीच जंग चरम पर पहुंच रही थी।

राजस्थान के सियासी खेल में ऑडियो टेप का ‘योगदान’

अधिकारियों ने सोमवार(13 जुलाई) को बताया कि दिल्ली, जयपुर, मुंबई और कोटा में छापेमारी की कार्रवाई तड़के शुरू की गई और इस दौरान प्रवर्तकों और मालिकों के परिसरों की तलाशी ली गई। उन्होंने कहा कि इस कार्रवाई में पुलिस अधिकारियों के अलावा कर विभाग के कम से कम 80 कर्मचारी थे। बता दें कि विभाग ने यह कार्रवाई नकदी के बड़े लेन-देन से जुड़ी जानकारी मिलने और पनबिजली समूह द्वारा लाभ को कम कर दिखाए जाने की सूचना के बाद की। जिस कारोबारी समूह के परिसरों पर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है, वह हाइड्रो मैकेनिकल उपकरणों से जुड़ा काम करता है और उसे 2018 में राजस्थान में बांध निर्माण के संबंध में ठेका दिया गया था।

आधिकारिक सूत्रों ने यह पुष्टि नहीं की कि क्या यह छापे राज्य में कांग्रेस नेतृत्व से जुड़े हुए हैं। वहीं, दिल्ली और राजस्थान में पार्टी सूत्रों ने छापों के समय को लेकर सवाल उठाए और इस कार्रवाई की निंदा की। राजस्थान में कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि पार्टी नेता राजीव अरोड़ा और धर्मेंद्र राठौर से जुड़े परिसरों पर छापेमारी की गई है।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है