MBBS स्टूडेंट्स के साथ की गई Ragging, डर के कारण कोई छात्र मुंह खोलने को तैयार नहीं

0
213

हर बार इस तरह के दावे तो बहुत किए जाते हैं कि किसी भी कॉलेज में स्टूडेंट्स के साथ Ragging नहीं की जाएगी लेकिन ये दावे कितने पूरे होते हैं ये वो स्टूडेंट्स ही जानते हैं। हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस प्रथम वर्ष के छात्रों के साथ अजीब तरह से Ragging की गई जिसका ज़िक्र करने को भी छात्र तैयार नहीं हैं।

हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस छात्रों के आज लिखित में बयान लिए जाएंगे। कॉलेज की दो टीमें पूरे मामले की जांच करेंगी। भविष्य में इस तरह की घटनाएं नहीं हों इसे लेकर भी कॉलेज प्रबंधन नए सिरे से रणनीति बनाने की तैयारी में है। ब्वॉयज हॉस्टल में स्टूडेंट्स के बाल काटने का मामला थमता नहीं दिख रहा है। रविवार(6 मार्च) को छुट्टी होने की वजह से मामले की जांच आगे नहीं बढ़ सकी। जबकि सोमवार को कॉलेज प्रबंधन की अनुशासन समिति व एंटी Ragging कमेटी बैठक करेंगी। जिसके बाद सभी सीनियर व जूनियर छात्रों से बयान लिए जाएंगे। बयान के आधार पर ही कमेटी एक्शन लेगी।

Ragging को लेकर कॉलेज प्रशासन सख्त है। Ragging को लेकर पूर्व में पूरे हॉस्टल में दिशा निर्देश देते हुए कड़े कदम उठाने की बात कही गई है। छात्रों की तरफ से कोई शिकायत नहीं की गई है लेकिन फिर भी मामले में दो समितियां इसकी जांच करेंगी। जांच रिपोर्ट पर कार्रवाई होगी। इस तरह की घटनाएं दोबारा न हों इसके लिए भी नियम कायदे बनाए जाएंगे।

कॉलेज प्रबंधन ने मामले में Ragging से साफ इनकार कर दिया। छात्रों की तरफ से Ragging संबंधी किसी भी तरह की शिकायत से इनकार किया। इधर बाल कटवाने वाले छात्रों ने गर्मी व सिर में डैंड्रफ होने की बात कही है। कुछ छात्रों को ऐसी समस्या हो, यह तो समझा जा सकता है लेकिन एक साथ पूरे बैच को इस तरह की परेशानी होना, किसी के गले नहीं उतर रहा है। हैरानी की बात यह है कि करीब दो हफ्तों से ज्यादा समय से जब स्टूडेंट्स बाल काटे हुए कतारों में कॉलेज में यहां से वहां गुजर रहे थे तब हॉस्टल व कॉलेज प्रबंधन ने इस मामले को गंभीरता से क्यों नहीं लिया। इन सवालों का जवाब कब तक मिलेगा ये तो बताया नहीं जा सकता लेकिन इस तरह की हरकतों से बच्चों के मन पर बुरा असर पड़ता है।

यह भी पढ़ें – Bulandshahr : नाश्ता बनाते वक़्त Hostel में फटा Cylinder, कई लोग झुलसे

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है