जनता को मुफ्त सुविधाएं देने से आर्थिक संकट नहीं आएगा : Arvind Kejriwal

0
145

चुनाव से पहले सभी पार्टियां जनता से बहुत से वादे करती हैं लेकिन कुछ ही ऐसी पार्टियां हैं जो ये वादे निभाती हैं। इन्हीं पार्टियों में से एक आप पार्टी भी है जो जनता से किए गए वादों को पूरा करने में लगी हैं। चुनाव में जनता से मुफ्त सौगातों का वादा करके वोट बटोरने की प्रथा पर केंद्र सरकार रोक चाहती है। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि चुनावों में राजनीतिक दलों की ओर से किए ‘मुफ्त’ के वादों से आर्थिक संकट पैदा होगा। हालांकि, मोदी सरकार की इस मांग पर Delhi के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक Arvind Kejriwal भड़क उठे। उन्होंने कहा है कि जनता को मुफ्त सुविधाएं देने से नहीं बल्कि ‘दोस्तों’ को लाखों करोड़ों रुपए का फ्री फायदा देने से संकट आएगा। हालांकि, उन्होंने यह जरूर किया है कि बजट के एक हिस्से से ज्यादा फ्री नहीं देने पर विचार किया जा सकता है।

CM Arvind Kejriwal ने कहा, ”जनता को मुफ्त सुविधाएं देने से आर्थिक संकट नहीं आयेगा। ‘दोस्तों’ को लाखों करोड़ों रुपए का फ्री फायदा देने से आर्थिक संकट आएगा।” उन्होंने एक अन्य ट्वीट में सवाल पूछा, ”चुनाव से पहले घोषणाओं पर रोक? क्यों? घोषणाओं से आर्थिक संकट कैसे आएगा? इनका निशाना कही और है। घोषणाओं पर रोक नहीं होनी चाहिए। सरकारी बजट के एक हिस्से से ज्यादा फ्री नहीं देने पर विचार हो सकता है। ‘फ्री’ में मंत्रियों को सुविधाएं और किसी कंपनी को मुफ्त/सस्ती सुविधा या लोन माफी भी शामिल हो।”

खुद को जनता के लिए ‘रेवड़ीवाला’ के रूप में प्रचारित करने में जुटे CM Arvind Kejriwal ने कहा, ”क्या हमारे बच्चों को अच्छी शिक्षा फ्री मिलनी चाहिए, हर भारतीय को अच्छा इलाज फ्री मिलना चाहिए या बैंक लूटने वालों के लोन माफ होने चाहिए- देश को इस पर विचार करना चाहिए।” पिछले दिनों गुजरात में एक जनसभा को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा था कि इस मुद्दे पर जनमत संग्रह करा लिया जाए कि लोग मुफ्त शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाएं चाहते हैं या नहीं।

यह भी पढ़ें – Bharti Singh नहीं चाहतीं कि उनका बच्चा बालिग होने पर उनसे आर्थिक मदद लें

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है