गांगुली के राजनीति में आने से पहले बंगाल में राजनीतिक पार्टियों में शुरु हुई खीच-तान

0
83

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव समाप्त होने के बाद राजनीतिक पंडित अब बंगाल की ओर रुख कर दिये हैं। साल 2021 में बंगाल में विधानसभा चुनाव होने है, जिसकी तैयारी राजनीतिक पार्टियां अपनी जमींन तैयार करने लगी है। इसी कड़ी में कयास लगाए जा रहे हैं कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली राजनीति में आने के साथ बीजेपी का हिस्सा बन सकते हैं।

जिसपर तृणमूल कांग्रेस ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।  टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने कहा कि अगर सौरव ऐसा फैसला लेते हैं तो उन्हें काफी दुख होगा।

सौगत रॉय का मानना है कि सौरव गांगुली सभी बंगालियों के लिए एक आइकन हैं, अगर वो राजनीति में आते हैं तो मैं खुश नहीं होऊंगा। वो बंगाल से इकलौते क्रिकेट कप्तान रहे, टीवी शो के कारण भी फेमस हैं। उनका राजनीति में कोई बैकग्राउंड नहीं हैं, ऐसे में वो यहां नहीं टिक पाएंगे।

सौरव गांगुली को लेकर टीएमसी सांसद ने आगे कहा कि सौरव गांगुली को देश और गरीबों की समस्याओं के बारे में नहीं पता है, ना ही उन्हें गरीबी और मजदूरों की दिक्कत की जानकारी है। बीजेपी पर तंज कसते हुए सौगत रॉय ने कहा कि बीजेपी के पास मुख्यमंत्री पद का कोई उम्मीदवार नहीं है, इसी वजह से वो इस तरह की बातें फैला रहे हैं।

आपको बता दें कि अभी बीजेपी की ओर से बंगाल में बिना किसी चेहरे के साथ ही चुनाव में कूदने की बात कही जा रही है। लेकिन लंबे वक्त से ये कयास लग रहे हैं कि बीजेपी की ओर से सौरव गांगुली मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। हालांकि, इसकी कोई पुष्टि नहीं कर रहा है।