बौद्ध साहित्य, शास्त्रों के लिए पुस्तकालय निर्माण का प्रस्ताव

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंडो-जापान संवाद कार्यक्रम को संबोधित किया। बता दें कि भारत और जापान अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन कर रहे हैं। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जापान सरकार का धन्यवाद अदा किया। साथ ही कहा कि भारत-जापान संवाद के जरिए भगवान बुद्ध के विचार और आदर्शों को बढ़ावा मिल रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि बुद्ध के संदेश की रोशनी भारत के जरिए दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में फैली है

बौद्ध साहित्य और शास्त्रों के लिए पुस्तकालय

पीएम मोदी ने संवाद के दौरान पारंपरिक बौद्ध साहित्य और शास्त्रों के लिए पुस्तकालय निर्माण का प्रस्ताव रखा। पीएम मोदी ने कहा कि भारत को इस तरह की सुविधा बनाने में प्रसन्नता होगी और भारत इसके लिए जरूरी संसाधन उपलब्ध कराएगा। इस दौरान पीएम मोदी ने लोगों को भगवान बुद्ध के दिखाए रास्ते पर चलने का संदेश दिया

उज्जवल युवा दिमाग के पोषण का दशक

पीएम मोदी ने संवाद कार्यक्रम के दौरान इस दशक को उज्जवल युवा दिमाग के पोषण का दशक बताया। पीएम म दी ने कहा कि ये दशक आने वाले समय में मानवता के लिहाज से काफी अहम होगा। प्रधानमंत्री ने इनोवेटिव लर्निंग पर जोर दिया और नवाचार को मानव सशक्तिकरण की आधारशिला बताया

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है