अगले साल पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव का शोर साफतौर पर देखा जा सकता है. बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के बीच वार-पलटवार की राजनीति शुरू हो चुकी हैं. कई नेताओं ने टीएमसी छोड़ बीजेपी का दामन थाना तो कई बीजेपी छोड़ टीएमसी में शामिल हुए.

सोमवार को एक प्रेस कॉंफ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी पार्टी की उपलब्धियां गिनाईं. इस दौरान उन्होनें बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने बताया कि बंगाल सरकार ने करीब 20 हजार कैंप बनाए गए हैं. जो भारत में एक नया मॉडल है. सरकार की 12 स्कीम इसके तहत चल रही हैं जिसमें स्वस्थ साथी, कन्याश्री, रुपोश्री, 100 डिनेरकाज इत्यादि शामिल है. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ममता बनर्जी ने गृह मंत्री अमित शाह पर हमला बोलते हुए कहा कि गलत तथ्य बोलकर अमित शाह बंगाल के लोगों का अपमान न करें.

ममता बनर्जी ने आगे कहा कि हम सीएए, एनआरसी के खिलाफ हैं. किसी को भी देश छोड़कर जाने की जरूरत नहीं है. मैं गृह मंत्री अमित शाह के आरोपों का जवाब कल दूंगी. केंद्र सरकार लोगों में भ्रम फैला रही है. उन्होंने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह एक का होकर बात कर रहे हैं. उन्हें झूठ बोलना शोभा नहीं देता है.

शनिवार और रविवार को दो दिन के लिए गृह मंत्री अमित शाह बंगाल के दौरे पर थे. उन्होंने इन दो दिनों में रोड शो से लेकर बंगाल की धरती की महान हस्तियों को नमन कर टीएमसी सरकार पर हमला बोला.

मिदनापुर की रैली में तृणमूल कांग्रेस के कई विधायक, एक सांसद, पूर्व सांसद और CM ममता बनर्जी के खास रहे शुभेंदु अधिकारी बीजेपी में शामिल हो गए. बीजेपी की बढ़ती ताकत को देखते हुए ममता बनर्जी ने घरेलू बनाम बाहरी की बहस तेज कर दी है. इसी सिलसिले में टीएमसी जगह-जगह छोटी रैलियां करके अमित शाह के दौरे को बंगाल का अपमान बता रही है.

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है