Farmers Protest: गृह मंत्री के घर सरकार के एक्शन प्लान पर चर्चा, कृषि मंत्री और रेल मंत्री मौजूद

0
209
Farmers Protest: Discussion on action plan of home minister, home minister and railway minister present

नई दिल्ली: सरकार और किसानों के बीच मंगलवार को हुई बैठक में हुई बातों का का जायजा लेने के लिए आज बुधवार को गृह मंत्री अमित शाह के घर पर हाई लेवल बैठक हो रही है, बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेल मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद हैं। माना जा रहा है कि सरकार किसान आंदोलन खत्म करने को लेकर अपनी तैयारियों को लेकर ये बैठक कर रही है। मंगलवार को नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल ने ही किसानों के साथ बैठक की थी जिसमें सरकार की तरफ से किसानों की मांग को लेकर एक समिति बनाने का सुझाव दिया गया था। समिति बनाने पर किसान राजी हो गए थे लेकिन आंदोलन से पीछे हटने के लिए राजी नहीं हे हुए हैं।

इस बीच कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन थम नहीं रहा है। बुधवार को सातवें दिन भी जारी है, पंजाब के बाद अब उत्तर प्रदेश और हरियाणा से भी किसान दिल्ली पहुंचने का प्रयास कर रहे हैं और दिल्ली पुलिस ने अधिकतर बॉर्डर सील कर दिए हैं। सिंघू बॉर्डर पहले से ही बंद है और अब नोएडा का गौतम बुद्ध द्वार भी बंद कर दिया गया है। इसके अलावा गाजीपुर बॉर्डर, टीकरी बॉर्डर, झड़ौदा बॉर्डर, झटीकरा बॉर्डर, लामपुर बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर और औचंदी बॉर्डर भी बंद कर दिए गए हैं। बॉर्डर सील होने की वजह से दिल्ली एनसीआर में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

किसान संगठन आगे की रणनीति बनाने के लिए सिंघू बॉर्डर पर किसान संगठनों के नेताओं की बैठक चल रही है। केंद्र सरकार के साथ हुई वार्ता विफल होने के बाद किसान नेताओं की यह बैठक काफी अहम है क्योंकि इसमें सरकार द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर भी वे विचार कर रहे हैं। उधर, केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने बताया कि मंगलवार को हुई वार्ता के बाद किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को फिर तीन दिसंबर को दोपहर 12 बजे चौथे दौर की वार्ता के लिए बुलाया गया है। उनसे नये कृषि अधिनियमों से संबंधित विशिष्ट मुद्दों की पहचान करने और सरकार के साथ इन्हें दो दिसंबर को साझा करने को कहा गया है। सरकार उन मुद्दों पर तीन दिसंबर को विचार करेगी। केंद्रीय मंत्रियों ने किसान नेताओं को आश्वासन दिया कि भारत सरकार हमेशा किसानों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और किसानों के कल्याण के लिए चर्चा करने के लिए सदैव तैयार है।