Kisano को समझाने में असफल रहे PM Modi, वापस लिए तीनों Krishi Kanoon

0
358

काफी वक़्त की मशक्कत के बाद आज Kisano की जीत हुई है। PM Narendra Modi ने आज राष्ट्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने तीनों Krishi Kanoon को वापस लेने की घोषणा की। उन्होंने इस मुद्दे पर आंदोलन कर रहे Kisano को घर वापस लौटने की भी अपील की।

इन तीनों Krishi Kanoonon को वापस लेने के लिए लंबे समय से कुछ किसान संगठन विरोध-प्रदर्शन कर रहे थे। प्रधानमंत्री ने कानून वापस लेने की घोषणा करते हुए कहा कि हम Kisano के हित में यह तीनों कानून लेकर आए थे। PM Modi ने कहा कि शायद हम कुछ Kisano को इसके बारे में समझाने में असफल रहे।

PM Modi ने कहा कि इस महीने के अंत से शुरू होने वाले संसद सत्र के दौरान तीनों कानूनों को सदन के जरिए वापस ले लिया जाएगा।

जानें, PM Modi के राष्ट्र के नाम संबोधन की सभी बड़ी बातें

PM Modi ने प्रकाश पर्व के मौके पर देशवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि डेढ़ साल के अंतर के बाद करतारपुर कॉरिडोर खुलना काफी सुखद है।

देश के 100 में से 80 किसान छोटे किसान हैं। उनके पास दो हेक्टेयर से भी कम जमीन है। इन छोटे Kisano की संख्या 10 करोड़ से ज्यादा है। यही छोटी सी जमीन उनकी जिंदगी का आधार है।

देश के छोटे Kisano की चुनौतियों को दूर करने के लिए बीज, बीमा, बाजार और बचत पर हमारी सरकार ने चौतरफा काम किया है।

हमारी सरकार ने फसल बीमा योजना को प्रभावी बनाया। इसके तहत अधिक से अधिक Kisano को फायदा मिल रहा है। हमने पुराने नियम बने। बीते 4 लाख एक लाख करोड़ से अधिक का मुआवजा किसानों को मिला है।

आज केंद्र सरकार का कृषि बजट पहले के मुकाबले पांच गुना बढ़ गया है। हर साल सवा लाख करोड़ से अधिक कृषि पर खर्च किए जा रहे हैं।

छोटे Kisano की ताकत बढ़ाने के लिए हमारी सरकार ने कई पहल किए हैं। हमने क्रॉप लोन भी दोगुना कर दिया।

हमारी सरकार Kisano के हित में लगातार एक के बाद एक कदम उठाती जा रही है। Kisano के लिए पूरी ईमानदारी से काम कर रही है।

Kisano की स्थिति को सुधारने के इसी महाअभियान में देश में तीन कृषि कानून लाए गए थे। मकसद ये था कि देश के Kisano को, खासकर छोटे किसानों को, और ताकत मिले, उन्हें अपनी उपज की सही कीमत और उपज बेचने के लिए ज्यादा से ज्यादा विकल्प मिले। बरसों से ये मांग देश के किसान, देश के कृषि विशेषज्ञ, देश के किसान संगठन लगातार कर रहे थे। पहले भी कई सरकारों ने इस पर मंथन किया था। इस बार भी संसद में चर्चा हुई, मंथन हुआ और ये कानून लाए गए। देश के कोने-कोने में कोटि-कोटि Kisano ने, अनेक किसान संगठनों ने, इसका स्वागत किया, समर्थन किया। मैं आज उन सभी का बहुत आभारी हूं।

हमारी सरकार, Kisano के कल्याण के लिए, खासकर छोटे किसानों के कल्याण के लिए, देश के कृषि जगत के हित में, देश के हित में, गांव गरीब के उज्जवल भविष्य के लिए, पूरी सत्य निष्ठा से, किसानों के प्रति समर्पण भाव से, नेक नीयत से ये कानून लेकर आई थी। हमारी सरकार, Kisano के कल्याण के लिए, खासकर छोटे Kisano के कल्याण के लिए, देश के कृषि जगत के हित में, देश के हित में, गांव गरीब के उज्जवल भविष्य के लिए, पूरी सत्य निष्ठा से, Kisano के प्रति समर्पण भाव से, नेक नीयत से ये कानून लेकर आई थी।

आज ही सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़ा एक और अहम फैसला लिया है। जीरो बजट खेती यानि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए, देश की बदलती आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर क्रॉप पैटर्न को वैज्ञानिक तरीके से बदलने के लिए। एमएसपी को और अधिक प्रभावी और पारदर्शी बनाने के लिए, ऐसे सभी विषयों पर, भविष्य को ध्यान में रखते हुए, निर्णय लेने के लिए, एक कमेटी का गठन किया जाएगा। इस कमेटी में केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के प्रतिनिधि होंगे, किसान होंगे, कृषि वैज्ञानिक होंगे, कृषि अर्थशास्त्री होंगे।

इस महीने के अंत में शुरू हो रहे संसद सत्र के दौरान इसे संसद के जरिए वापस ले लिया जाएगा।

आज गुरुनानक देव जी का पवित्र प्रकाश पर्व है। आज मैं आपकों यह बताने आया हूं हमने तीन कृषि Kisano को वापस लेने का निर्णय लिया है। मैं आंदोलन कर रहे Kisano से घर वापस लौटने की अपील करता हूं।

यह भी पढ़ें – Somy Ali ने खोले Salman Khan के राज़! बताया किस तरह सहा Ex-Boyfriend का टॉर्चर

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है