सावधान! Paan और Gutka खाने के शौकीन लोगों की जान को है ख़तरा

0
207

ये जानते हुए कि Gutka सेहत के लिए ख़राब होता है फिर भी लोग इसे खाते हैं लेकिन अगर आपको ये पता चले कि Gutka खाने से आपको कैंसर या जानलेवा बिमारी हो सकती है तो आपको कैसा लगेगा। Paan मसाले में कई कंपनियां कत्था नहीं बल्कि चमड़े को रंगने वाले केमिकल गैंबियर मिला रही हैं। अलीगढ़ में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) द्वारा लिए गए शिखर, प्रधान व Paan बहार मसालों के नमूनों की रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है।

गैंबियर कानपुर की टेनरियों में चमड़े को रंगने में प्रयोग किया जाता है। ये कोई मज़ाक नहीं बल्कि हक़ीक़त है कि Paan मसाले के सेवन से कैंसर हो सकता है। इसके बावजूद लोग इसका सेवन करते हैं। जिस Paan मसाले में कत्था, केसर सहित अन्य पदार्थों के मिलाने का दावा किया जाता है। उसको लेकर चौंकाने वाला खुलासा अलीगढ़ में एफडीए द्वारा अक्तूबर 2021 में लिए Paan मसाले की नमूना रिपोर्ट में दिखाया गया है।

विभाग द्वारा उदयसिंह जैन रोड स्थित वार्ष्णेय एजेंसीज के यहां से शिखर, प्रधान व पानबहार Paan मसाले का नमूना भरकर लेब्रोट्ररी में जांच के लिए भेजा गया था। अब लैब से आई रिपोर्ट में Paan मसाले में कत्थे का मिश्रण नहीं पाया गया है बल्कि उसमें चमड़े को रंगने में प्रयोग किए जाने वाले गैंबियर मिलाने की पुष्टि हुई है। मामले में कंपनियों को नोटिस जारी किया है।

एफडीए डीओ ने बताया कि गैंबियर कानपुर की टेनरियों के नाम पर आता है लेकिन इसका इस्तेमाल सस्ते Paan मसाला और गुटखा बनाने में होता है। इंडोनेशिया में गैंबियर बबूल के जंगलों की तरह फैला हुआ है। यह पेड़ की छाल, पत्तियों और जड़ को पीसकर बनाया जाता है। भारत आने से पहले इसमें कई चरणों में रसायनों को भी मिलाया जाता है। गैंबियर का इस्तेमाल चमड़े की टैनिंग में किया जाता है। यानि यह कच्चे चमड़े को पकाने का काम करता है।

यह भी पढ़ें – UP Election : BJP से हुआ Kangana Ranaut को प्यार, जनता से मांगा वोट

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है