30 साल से Toilet का Paani पी रहे लोग, जानें वजह

0
155

प्यास लगती है तो हर इंसान तो क्या, जानवर भी Paani की तलाश करता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि कोई भी गंदा Paani पी ले। भारत के अस्पतालों में आए दिन कई खामियां देखने को मिलती हैं। इसके चलते मेडिकल विभाग और उसके अधिकारी आलोचनाओं का शिकार भी बनते हैं। लेकिन जापान के अस्पताल ने तो हद पार कर दी। यहां एक ऐसा मामला सामने आया है जहां एक सरकारी अस्पताल में लोग तीस साल से Toilet का Paani पी रहे हैं।

तीस साल से लोग Toilet का Paani पी रहे हैं। इस बात का खुलासा तब हुआ जब यह पता चला कि पीने के Paani के कई पाइप टॉयलेट से जुड़े हुए हैं। इतना सुनते ही अस्पताल प्रशासन के हाथ पांव फूल गए। दरअसल, यह घटना जापान के ओसाका यूनिवर्सिटी अस्पताल का है। जापानी मीडिया की रिपोर्ट मुताबिक, इस अस्पताल में Paani की समय-समय पर जांच भी होती रहती थी लेकिन कभी इस बात की जानकारी नहीं दी गई कि Paani की क्वालिटी खराब है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से लोगों को लगा कि Paani का स्वाद सही नहीं आ रहा है इसके बाद जब फिर से Paani की जांच कराई गई तो पूरी पोल खुल गई।

इस मामले के सामने आते ही हड़कंप मच गया। अस्पताल के निदेशक और उपाध्यक्ष कज़ुहिको नकातानी ने पूर्व रोगियों और स्टाफ के सदस्यों के नाम माफीनामा जारी किया। उन्होंने लिखा कि इस बात का खेद है कि उन्नत चिकित्सा देखभाल प्रदान करने वाले अस्पताल के चलते इस तरह की घबराहट पैदा करने वाली स्थिति बन गई। इस पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है।

जानें कब सामने आई सच्चाई

जांच में यह पाया गया कि अस्पताल परिसर के Paani के नलों का कनेक्शन गलत है। इस मामले की आगे की जांच में पता चला है कि पीने के पानी के पाइप Toilet से जुड़े हुए थे। इतना ही नहीं रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि Paani के पाइप्स का यह गलत कनेक्शन पिछले 30 सालों से है। यह तबसे है जब 1993 में यह अस्पताल खुला था। अस्पताल के करीब 120 नलों में यह खराबी बताई गई है।

आश्चर्य की बात यह भी है कि कर्मचारी और मरीज पिछले 30 सालों से पीने, धोने और अन्य जरूरतों के लिए इस Paani का इस्तेमाल कर रहे थे। अस्पताल में हो रही इतनी बड़ी लापरवाही के बारे में तब मालूम हुआ जब अस्पताल की नई बिल्डिंग बनवाने का फैसला किया गया और नई बिल्डिंग के लिए Paani सप्लाई के दौरान अशुद्ध पानी की यह खामी सामने आई।

यह भी पढ़ें – सांसद Pragya Thakur का बयान, साधु-संतों का ध्यान भंग करती है ‘अज़ान’

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है