Home Politics बंगाल में बीजेपी के साथ ओवैसी?

बंगाल में बीजेपी के साथ ओवैसी?

0

बंगाल में ओवैसी बिगाड़ेंगे ममता का खेल?

पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है। बीजेपी राज्य मे टीएमसी शासन को खत्म करने के लिए जोर आजमाईश में जुटी हुई है। बीजेपी के बड़े नेता लगातार पश्चिम बंगाल में रैलियां कर रहे हैं। केंद्रीय मंत्रियों की रैलियों को देखकर ये साफ है कि बीजेपी पश्चिम बंगाल चुनाव में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती। कुल मिलाकर देखा जाए तो पश्चिम बंगाल में बीजेपी अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए जोर-शोर से लगी है जिसने टीएमसी की टेंशन बढ़ा दी है यही वजह है कि केंद्र सरकार के फैसलों के खिलाफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मुखर होने का कोई मौका नहीं छोड़ती। केंद्र सरकार के हर फैसले की मुखालफत करती हुई नजर आती हैं। लेकिन अब AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के ऐलान के बाद ममता बनर्जी की टेंशन में इजाफा होता नजर आ रहा है। दरअसल असदुद्दीन ओवैसी ने पश्चिम बंगाल में पूरे जोर-शोर के साथ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। हाल ही में ओवैसी ने बंगाल में AIMIM के पदाधिकारियों के साथ बैठक भी की थी.. बता दें कि पश्चिम बंगाल में 294 विधानसभा सीटें हैं जिनमें से 2 सीटों पर सदस्य मनोनीत किए जा चुके हैं ऐसे में चुनाव केवल 292 सीटों पर होने हैं। लेकिन असदुद्दीन ओवैसी की नजर पश्चिम बंगाल की 120 सीटों पर है।

मुस्लिम वोट बिगाड़ेंगे ममता का खेल

दरअसल पश्चिम बंगाल की 27 फीसदी आबादी मुस्लिम है। 2021 विधानसभा चुनाव में इस आबादी की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। हालांकि जो मुख्य मुकाबला है वो बीजेपी और टीएमसी के बीच में है। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी के चुनावी मैदान में उतरने के बाद यहां ममता बनर्जी का खेल बिगड़ता नजर आ रहा है। दरअसल ओवैसी के चुनावी मैदान में उतरने के बाद टीएमसी को इस बात का डर है कि असदुद्दीन ओवैसी यहां उनके  वोट काटेंगे जिसका सीधा फायदा बीजेपी को मिलेगा। आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं है जब ओवैसी की पार्टी AIMIM वोट कटवा की भूमिका में नजर आ सकती है। इससे पहले भी ओवैसी की पार्टी पर वोट कटवा होने के आरोप लग चुके हैं। बिहार में हुए विधानसभा चुनावों में भी ओवैसी की पार्टी चुनावी मैदान में उतरी थी जहां पार्टी ने 20 में से 5 सीटों पर जीत दर्ज की थी। यहां कई सीटों पर AIMIM ने महागठबंधन का खेल बिगाड़ दिया था। हालांकि टीएमसी की मानें तो उनकी पार्टी को ओवैसी के चुनाव लड़ने या लड़ने से कोई नुकसान नहीं होने वाला..हाल ही में टीएमसी के विधायक शौकत मुल्ला ने कहा था कि बांग्ला मुस्लिम अपने सच्चे फिक्रमंद को पहचानते हैं

बंगाल में बीजेपी ने झोंकी पूरी ताकत

पश्चिम बंगाल में बीजेपी पूरी ताकत झोंक चुकी है। गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बंगाल में एक्टिव मोड में नजर आ रहे हैं। जेपी नड्डा के काफिले पर रैली के दौरान हमला भी हुआ था। साफ है कि बीजेपी इस बार ममता बनर्जी के किले को भेदने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती। ऐसे में ओवैसी की एंट्री से बीजेपी को कितना फायदा पहुंचता है ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है

Exit mobile version