Home Crime 20 वर्ष पहले UP Police इंस्पेक्टर राम मिलन यादव की हत्या करने...

20 वर्ष पहले UP Police इंस्पेक्टर राम मिलन यादव की हत्या करने वाले अपराधी अनुपम दुबे पर योगी सरकार ने लगाया NSA

0
BJP

मामला UP Police से जुड़ा हुआ पर पर ये भी समझना जरूरी है कि अपराध वो जहरीला पेड़ है जिस पर कब दुबारा हरी पत्तियां आने लगें और दुबारा कब जहरीला फल लगने लगे ये कहना खुद अपराध किये अपराधी के लिए मुश्किल होता है. अब अपराधी अनुपम दुबे को ही देख लीजिये, उसके पाप उसका पीछा लगातार करते जा रहे हैं और बहुजन समाज पार्टी से संरक्षित इस अपराधी का विधिवत इलाज़ योगी सरकार में शुरू हो चुका है.

ज्ञात हो कि मामला UP के जिला फरुखाबाद का है. कभी इस जनपद के अति चर्चित पुलिस इंस्पेक्टर हत्याकांड के प्रमुख आरोपी और इनामी अपराधी अनुपम दुबे पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (रासुका) NSA की कार्रवाई कर दी गई है। इंस्पेक्टर फतेहगढ़ ने मैनपुरी जिला जेल पहुंचकर अनुपम दुबे को एनएसए तामील करा दिया है।

बताते चलें कि, फतेहगढ़ मोहल्ला कसरट्टा निवासी अनुपम दुबे पुत्र स्वर्गीय महेश दुबे वर्तमान में पड़ोसी जिला कन्नौज के कस्बा संलन निवासी एक ठेकेदार और पुलिस इंस्पेक्टर रामनिवास यादव हत्याकांड मामले में वर्तमान समय में मैनपुरी की जिला जेल में निरूद्ध है। यहाँ ये गौर करने योग्य जरूर है कि उक्त दोनों घटनाएं लगभग 20 साल पहले हुई थी जिनकी पत्रावली को दबा दिया गया था।

रेल विभाग की कमान ADG पीयूष आनंद के हाथ में आते ही अनुपम दुबे की मुश्किलें बढ़ने लगी। उन्होंने इंस्पेक्टर हत्याकांड की पत्रावली सहित तकरीबन 45 मुकदमे खोल कर प्रदेश शासन से अनुपम दुबे के ऊपर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित करा दिया। UP Police के बढ़ते दबाव को देखकर अनुपम दुबे शमीम हत्याकांड में फतेहगढ़ न्यायालय में हाजिर हो गए।

इसके बाद उन्हें मैनपुरी की जिला जेल में स्थानांतरित कर दिया गया। जेल जाने के बाद अनुपम पर डराने, धमकाने के मुकदमे दर्ज हुए और उनके ऊपर रासुका की कार्यवाही कर दी गई है। बताते चलें कि, अनुपम दुबे बसपा से पड़ोसी जिला हरदोई से विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। उनके भाई डब्बन दुबे को दो दिन पूर्व पुलिस ने अयोध्या से गिरफ्तार किया और लगातार उनके विरुद्ध मुकदमे दर्ज हो रहे हैं। अनुपम दुबे के परिजन इसको लेकर परेशान हैं।अनुपम इस समय फतेहगढ़ और उनके भाई डब्बन फर्रुखाबाद की जिला जेल में निरुद्ध हैं।

Exit mobile version