अब Qutab Minar की पहचान पर उठने लगे सवाल, असलियत में है सन टावर

0
249

आज तक इतिहास में जिस मीनार को हमने Qutab Minar के तौर पर जाना था असल में वो सन टावर है। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि इस बात का दावा किया जा रहा है। Archaeological Survey of India (ASI) के एक पूर्व अधिकारी ने Qutab Minar को लेकर बड़ा दावा किया है।

ASI के पूर्व अधिकारी ने दावा किया है कि Qutab Minar का निर्माण पांचवीं शताब्दी में राजा विक्रमादित्य ने कराया था, ताकि सूरज की बदलती दिशा को देख सकें। उन्होंने अपने दावे के पक्ष में सबूत भी पेश करने की बात कही है। यह दावा ऐसे समय पर किया गया है जब ज्ञानवापी मस्जिद से लेकर मथुरा के ईदगाह, दिल्ली के जामा मस्जिद तक के पहले मंदिर होने की बात कही जा रही है और अलग-अलग अदालतों में याचिकाएं दायर की गई हैं।

ASI के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा ने दावा किया कि कुतुब मीनार का निर्माण कुतब अल-दीन ऐबक ने नहीं बल्कि राजा विक्रमादित्य ने कराया था। उन्होंने सूर्य की दिशा के अध्ययन के लिए इसका निर्माण कराया था। उन्होंने कहा, ”यह Qutab Minar नहीं है, बल्कि सन टावर (वेधशाला टावर) है। इसका निर्माण 5वीं शताब्दी में राजा विक्रमादित्य ने कराया था कराया गया था। कुतब अल-दीन ऐबक ने नहीं। मेरे पास इसको लेकर बहुत सबूत है।” उन्होंने ASI की ओर से कुतुब मीनार का कई बार सर्वे किया है।

धर्मवीर शर्मा ने आगे कहा, ” Qutab Minar में 25 इंच का झुकाव है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसे सूर्य के अध्ययन के लिए बनाया गया था। 21 जून को कम से कम आधे घंटे के लिए वहां छाया नहीं होती है। यह विज्ञान और पुरातात्विक तथ्य है। उन्होंने कहा कि Qutab Minar एक अलग ढांचा है और इसका पास के मस्जिद से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि Qutab Minar का दरवाजा उत्तर दिशा में है, जोकि रात में ध्रुव तारे को देखने के लिए बनाया गया है।

यह भी पढ़ें – Cannes 2022: भारत को मिला कंट्री ऑफ ऑनर का सम्मान

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है