अब इन जगहों पर खुले में नहीं पढ़ी जाएगी ‘Namaz’

0
660

देश दुनिया में हर जगह जुमे के दिन और ख़ास त्यौहार पर मस्जिदों और खुले में Namaz पढ़ी जाती है लेकिन गुरुग्राम जिला प्रशासन ने मंगलवार(2 नवंबर) को शहर के आठ स्थानों पर Namaz अदा करने की अनुमति को रद्द कर दिया है। बाकी अन्य स्थानों पर भी यदि स्थानीय लोगों को आपत्ति होगी तो वहां भी अनुमति नहीं दी जाएगी।

2 नवंबर को लघु सचिवालय में उपायुक्त डॉ. यश गर्ग की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। इसमें डीसीपी दीपक सरारण, हिंदू और मुस्लिम संगठनों के पदाधिकारी शामिल हुए। बैठक में यह फैसला किया गया कि स्थानीय लोगों और आरडब्ल्यूए के ऐतराज के बाद जिला प्रशासन द्वारा खुले में Namaz की अनुमति रद्द की गई है। इसमें सेक्टर-49 बंगाली बस्ती, डीएलएफ फेज-3 के वी ब्लाक, सूरत नगर फेस-1, खेड़ी माजरा गांव के बाहर, दौलताबाद गांव के पास द्वारका एक्सप्रेसवे पर, सेक्टर-68 गांव रामगढ़ के पास, डीएलएफ स्केयर टावर के पास और गांव रामपुर से नखडोला रोड शामिल है।

जिला उपायुक्त द्वारा Namaz अदा किए जाने वाले स्थानों को चिन्हित करने के लिए एक कमेटी गठित की गई है। जिसमें एसडीएम, एसीपी, हिंदू/मुस्लिम संगठन के पदाधिकारी और अन्य सामाजिक संगठन शामिल है। यह कमेटी सभी पक्षों से बातचीत कर यह निर्णय लेगी कि भविष्य में किन स्थानों पर Namaz अदा की जाए। यह निर्णय लेते समय यह ध्यान रखा जाएगा कि स्थानीय लोगों को Namaz अदा करने से कोई परेशानी न हो। यह कमेटी यह भी सुनिश्चित करेगी कि किसी भी सड़क, मार्ग या सार्वजनिक स्थान पर Namaz अदा न की जाए।

यह भी पढ़ें – T-20 वर्ल्ड कप में हार के बाद Virat Kohli की बेटी को मिली धमकी

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है