बेईमानी करने वाले हैं उनको आराम दीजिये : जेपी नड्डा

0
376
अब बिहार में विकास कार्यों की बात करना जरूरी है: जेपी नड्डा

पटना:  बिहार में विधानसभा के चुनावों को लेकर जोर-शोर से प्रचार-प्रसार का दौर जारी है। इसी को लेकर सियासी दलों द्वारा एक-दूसरे के खिलाफ वार-पलटवार भी जमकर देखे जा रहे हैं। भाजपा ने राष्ट्रीय अध्यक्ष सोमवार को एनडीए के प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार करने के लिये बिहार के सीतामढ़ी पहुंचे हैं। जहां उन्होंने एनडीए के प्रत्याशियों के पक्ष चुनावी जनसभा को संबोधित किया। जहां उनके निशाने पर प्रमुख तौर महागठबंधन रहा। जानकारी है कि भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा आज दरभंगा में एक रोड शो भी करेंगे।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि अब हमारे तेजस्वी यादव बाबू कहा रहे हैं कि हम बिहार के युवाओं को 10 लाख नौकरियां देंगे। वहीं जेपी नड्डा ने बिहार से उनकी वहज से 15 साल पहले 25 लाख लोगों का पलायन हो जाने का आरोप लगाया है। जिस पर नाराजगी जाहिर करते हुये जेपी नड्डा ने कहा कि अरे 15 साल पहले 25 लाख लोगों का तो तुमने पलायन करवा दिया। तेजस्वी यादव उसका कौन जवाब देगा।

जेपी नड्डा ने अपने संबोधन को आगे जारी रखते हुये कहा कि आज से 15 साल पहले बिहार में चुनाव का मुद्दा विकास नहीं था। क्योंकि यहां लालू यादव का जंगलराज था। जेपी नड्डा ने कहा कि आज बिहार में नरेन्द्र मोदी ने राजनीति की संस्कृति, चाल, चरित्र सब बदल दिया है। जेपी नड्डा ने कहा कि अब बिहार में विकास कार्यों की बात करना जरूरी है।

जेपी नड्डा ने आगे कहा कि बिहार का ये विधानसभा चुनाव सिर्फ एनडीए उम्मीदवारों को जिताने का ही नहीं है। उन्होंने कहा कि ये विधानसभा का चुनाव बिहार के विकास की गाड़ी को आगे बढ़ने है। विकास की गाड़ी को आगे बढ़ाने के लिए नीतीश कुमार को दोबारा मुख्यमंत्री बनाना जरूरी है।

जेपी नड्डा ने आरोप लगाया कि 15 साल पहले जिस बिहार में लूटराज था। उसे हम लॉ एंड ऑर्डर के राज पर आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। बाहुबल पर चलने वाले बिहार को हम विकास बल के आधार पर आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। 2014 में जब मोदी जी ने जीरो बैलेंस में जनधन खाते खुलवाने शुरू किए। तब विपक्षियों ने सवाल उठाया कि गरीबों के खाते खुलवाने से कुछ नहीं होगा। जब लॉकडाउन लगा तब नरेंद्र मोदी ने बिना मनीऑर्डर व पोस्टमैन के 20 करोड़ गरीब महिलाओं के इन्हीं जनधन खातों में 3 महीने तक 500-500 रुपये पहुंचाए।