आज देश ही नहीं पूरी दुनिया में भारतीय महिला और पुरुष Hockey Teams के प्रदर्शन की चर्चा हो रही है। 4 दशक बाद पुरुष टीम सेमीफाइनल में पहुंची, तो महिला टीम पहली बार अंतिम 4 में जगह बनाने में सफल हुई। इस सफलता का जितना श्रेय खिलाड़ियों और कोच को जाता है, उतना ही हिस्सा ओडिशा के मुख्यमंत्री ‘Naveen Patnaik’ का है। उन्होंने तब Indian Hockey का हाथ थामा, जब सबने किनारा कर लिया था।

100 करोड़ रुपए का करार करने पर Naveen Patnaik की आलोचना भी हुई लेकिन आज नतीजा सबके सामने है। Naveen Patnaik भले ही ओडिशा के मुख्यमंत्री हैं लेकिन वो आज भारत में Hockey के असली ‘नायक’ बनकर उभरे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि 2018 में सहारा Indian Hockey Teams को प्रायोजित करने से पीछे हट गया, तो ओडिशा सरकार ने ही हॉकी इंडिया के साथ अगले 5 साल Hockey Teams को प्रायोजित करने के लिए 100 करोड़ का समझौता किया था। तब उन्होंने इसे ओडिशा की तरफ से देश को एक तोहफा बताते हुए कहा था कि यह खेल राज्य के आदिवासी क्षेत्र, जहां “बच्चे हॉकी स्टिक के साथ चलना सीखते हैं” में जिंदगी जीने का एक तरीका है।

100 करोड़ का करार करने पर हुई थी Naveen Patnaik की आलोचना Indian Hockey को नए शिखर पर पहुंचाने की उनकी कोशिश को अक्सर सोशल मीडिया और इससे इतर सराहा गया है। हालांकि, ओडिशा जैसे गरीब राज्य के लिए 100 करोड़ रुपए Hockey पर खर्च करने को लेकर उन्हें आलोचनाओं का शिकार भी होना पड़ा है। जब Naveen Patnaik ने हॉकी इंडिया से करार किया था, तब आलोचकों ने इसे लेकर हैरानी जताई थी कि बार-बार प्राकृतिक आपदाओं का सामना करने वाला यह गरीब राज्य, क्या इस खेल के लिये सरकारी खजाने पर 100 करोड़ रुपये का खर्च वहन कर पाएगा।

ठीक तीन साल बाद, ओडिशा सरकार ने सभी राष्ट्रीय और स्थानीय अखबारों में पूरे पन्ने का विज्ञापन देकर घोषणा की- इस उल्लेखनीय यात्रा में हॉकी इंडिया के साथ भागीदारी करके ओडिशा को गर्व है। गर्व होता भी क्यों न, मौका ही ऐसा था। पुरुष और महिला Hockey Teams  Tokyo Olympic के सेमीफाइनल में जो पहुंचीं थीं।

स्पॉन्सरशिप की राशि 100 से बढ़ाकर 150 करोड़ की मुख्यमंत्री Naveen Patnaik ने आलोचकों को माकूल जवाब देते हुए कहा कि खेल में निवेश युवाओं में निवेश है। उन्होंने कहा कि इस मंत्र ने ओडिशा का ध्यान हॉकी पर केंद्रित करवाया, जो एक तरह से जनजातीय आबादी के लिये जीवन जीने का तरीका है। उन्होंने 5 सालों में प्रायोजन राशि को भी बढ़ाकर 150 करोड़ कर दिया है। ओडिशा सरकार ने घोषणा की है कि 38 चैंपियनों ने हॉकी में इतिहास लिखा, 1.3 अरब भारतीय अब सीना तान कर चलते हैं।

यह भी पढ़ें: अब Delhi में RT PCR Test कराने के लिए देने होंगे सिर्फ 500 रूपए

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है