पैगंबर मोहम्मद साहब पर Mohan Bhagwat बोले, किसी की श्रद्धा को ठेस न पहुंचाएं

0
199

देश में हर तरफ धर्म से जुड़े मुद्दे उठाए जा रहे हैं। एक धर्म का इंसान दूसरे धर्म के इंसान के साथ प्यार मोहब्बत से रह रहा है तो नफरत की आग लगाने वाले उनके बीच की इस मोहब्बत को ख़त्म करने के लिए भरपूर कोशिश करने में जुट जाते हैं। इस तरह से देश में नफरत की आग फैलती जा रही है। कहीं न कहीं इस आग को बढ़ावा देने में मीडिया का भी हाथ है जो इस तरह के विवादों को टीवी पर दिखा कर लोगों के दिलों में नफरत को जन्म देता है। RSS प्रमुख Mohan Bhagwat ने विजयदशमी पर दिए अपने भाषण में हाल ही में पैगंबर मोहम्मद पर बयानों के चलते छिड़े विवाद पर भी बात की है।

RSS के मुखिया Mohan Bhagwat ने इस दौरान किसी का नाम तो नहीं लिया, लेकिन इशारों में ही बयानबाजी करने वाले लोगों को नसीहत दी। उन्होंने कहा कि किसी की श्रद्धा को ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए। इसका ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि समाज को तोड़ने के प्रयास चल रहे हैं। उदयपुर, अमरावती समेत कई जगहों पर क्रूर घटनाएं हुई हैं। पूरे समाज में इससे अशांति फैलने का खतरा रहता है। मुस्लिमों के भी प्रमुख लोगों ने इसका विरोध किया। उनकी इस टिप्पणी को उन लोगों के लिए संदेश माना जा रहा है, जिनके बयानों पर विवाद रहे हैं।

Mohan Bhagwat ने इस दौरान दिल्ली की एक मस्जिद में अपने दौरे का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि आरएसएस की ओर से अल्पसंख्यकों से वार्ता कोई पहली बार नहीं है। हमने पहले भी ऐसा किया है। डॉ. हेडगेवार के समय से ऐसा चला आ रहा है और गुरुजी ने जिलानी से मुलाकात की थी। तब से ही हमारा सभी वर्गों के साथ संवाद चलता रहा है। यही नहीं उन्होंने कहा कि हम ऐसे समाज से आते हैं, जो गलत को स्वीकार नहीं करता। भले ही संघ पर समाज को विश्वास है, लेकिन हम भी कुछ गलत करेंगे तो समाज हमें कान पकड़कर बैठा देगा। उन्होंने कहा कि गलत घटनाओं पर हिंदू समाज खुलकर बोलता है।

Mohan Bhagwat ने साफ तौर पर कहा कि किसी की श्रद्धा को ठेस न पहुंचाएं, इसका ध्यान रखना होगा। हम दिखते अलग हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। अलग होने का विचार गलत है। इसका परिणाम हमने देखा है और इसके चलते हमने धरती खोई और परिवार उजड़े। हमको एक रहना है और भारत के पूर्वजों के हैं। भले ही हमारे धर्म और संप्रदाय अलग हों, लेकिन समाज और राष्ट्रीयता के नाते हम एक हैं। ऐसे विचार से ही देश को एकता और प्रगति के रास्ते पर ले जाया जा सकता है। संघ प्रमुख ने इस दौरान जनसंख्या पर कंट्रोल की भी बात की।

यह भी पढ़ें – दशहरे पर Mohan Bhagwat ने कहा, – भारत को जनसंख्या नियंत्रण कानून की ज़रुरत है 

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है