Manoj Bajpayee ने बताया क्यों पसंद की जा रही हैं साउथ की फ़िल्में

0
157

इस वक़्त हर तरफ तारीफ हो रही है तो बस South Films की। पूरा Bollywood भी परेशान है कि आख़िर क्या वजह है जो दर्शकों को सिर्फ South Films ही पसंद आ रही हैं। साउथ फिल्मों की तारीफ करने वालों में लेटेस्ट नाम Manoj Bajpayee का भी जुड़ गया है। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि साउथ फिल्मों की सफलता से बॉलीवुड वाले डर गए हैं।

Manoj Bajpayee ने कहा कि केजीएफ चैप्टर 2, आरआरआर और पुष्पा की सक्सेस से सब कांप गए हैं। साथ ही यह भी कहा कि बॉलीवुड को जल्द से जल्द सीख ले लेनी चाहिए। उन्होंने साउथ सिनेमा की खूबियां भी गिनवाईं। बता दें कि साउथ फिल्में लगातार हिंदी बेल्ट में बेहतरीन परफॉर्मेंस दे रही हैं। वहीं साथ में रिलीज होने वाली बॉलीवुड फिल्मों को दर्शक नहीं मिल रहे। इसको लेकर हिंदी और साउथ दोनों इंडस्ट्री में सुगबुगाहट है।

Manoj Bajpayee ने कहा, इतनी ब्लॉकबस्टर हो रही हैं, Manoj Bajpayee और मेरे जैसे दूसरे लोगों को 1 मिनट के लिए भूल जाइए, मुंबई फिल्म इंडस्ट्री के मेनस्ट्रीम फिल्ममेकर्स कांप गए हैं। उन्हें समझ ही नहीं आ रहा क्या करें। क्यों केजीएफ 2 और आरआरआर जैसी फिल्में हिंदी में डबिंग के बावजूद 300 करोड़ रुपये कमा ले रही हैं जबकि सूर्यवंशी 200 करोड़ भी नहीं कमा पा रही। Manoj Bajpayee मानते हैं कि इन फिल्मों की सफलता से सीख लेनी चाहिए। Manoj Bajpayee बोले, वे लोग पैशनेट हैं, और हर शॉट ऐसे शूट करते हैं जैसे दुनिया का बेस्ट शॉट दे रहे हों। हर शॉट को ऐसे करते हैं जैसे कल्पना कर रखी हो। सब दर्शकों पर नहीं लाद देते। क्योंकि वे अपने दर्शकों को बहुत सम्मान देते हैं।

अगर आप पुष्पा, आरआरआर और केजीएफ देखेंगे तो यह क्लीयर कट बनी है। हर फ्रेम ऐसे शूट किया गया है जैसे जीने-मरने की सिचुएशन हो। हम यहीं चूक कर जाते हैं। हमने मेन स्ट्रीम फिल्मों को सिर्फ बॉक्स ऑफिस पर पैसा कमाने का ज़रिया बना दिया है। हम इनकी आलोचना नहीं कर पाते तो इनको ‘अलग’ कहने लगते हैं लेकिन ये मुंबई इंडस्ट्री के मेनस्ट्रीम फिल्ममेकर्स के लिए सीख है कि मेनस्ट्रीम सिनेमा कैसे बनाया जाए।

यह भी पढ़ें – Om The Battle Within Teaser : एक्शन करने को फिर तैयार हुए Aditya Roy Kapur

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है