होली स्पेशल: सिर चढ़कर बोलता है बरसाना की लटमार होली का खुमार 

आसमां में उड़ता गुलाल और बरसाना के मंदिर में झूमते भगवान कृष्ण के भक्त

बरसाना की होली का खुमार सिर चढ़कर ऐसे बोलता है कि कोई खुद को रोक नहीं पाता

यहां हर चेहरा आपको रंगों से सना नजर आएगा, क्या महिला, क्या बूढ़े और बच्चे हर कोई होली की मस्ती में झूमता नजर आएगा

महिलाएं आपको लट बरसाती हुई नजर आएंगी लेकिन इस लटमार होली में दर्द से ज्यादा सुकून का अहसास होता है

रंग गुलाल के साथ प्रेम और आस्था का ऐसा संगम आपको सिर्फ और सिर्फ ब्रज के बरसाना में ही देखने को मिलेगा

रंगों वाली होली तो आपने खूब देखी होगी, लेकिन ब्रज के बरसाना में होली खेलने का अंदाज ही सबसे निराला है। बरसाना की इस लटमार होली में वैसे तो दूर-दूर से लोग पहुंचते हैं लेकिन खासतौर पर इसमें नंदगांव के पुरूष और बरसाना की महिलाएं हिस्सा लेती हैं. नंद गांव की टोलियां हाथों में पिचकारियां लिए बरसाना पहुंचती हैं और फिर बरसाना की महिलाएं उन पर खूब लाठियां बरसाती हैं। पुरूषों को लाठियों से बचना होता है और साथ ही महिलाओं को रंगों से भिगोना होता है।

नंदगांव और बरसाना के लोगों का मानना है कि होली की लाठियों से कभी भी किसी को चोट नहीं लगती अगर किसी को चोट भी लगती है तो मिट्टी लगा देने भर से ही घाव ठीक हो जाता है..मान्यता है कि इस होली को देखने के लिए देवता स्वयं आते हैं..यही वजह है कि श्रद्धालुओं के लिए इस होली का महत्व और भी बढ़ जाता है

Ankita lokhande ने किया खुलासा, ‘फिल्म में रोल देने के लिए प्रोड्यूसर…

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है