Tiranga ख़रीदने के लिए मजबूर करने वाले राशन डिपो धारक का लाइसेंस सस्पेंड

0
203

इस बार का आज़ादी का जश्न कुछ ख़ास होने वाला है। हर घर Tiranga अभियान के तहत हर तरफ बस Tiranga ही नज़र आएगा। लेकिन कुछ लोगों ने इस अभियान को लेकर लोगों को मजबूर करना शुरू कर दिया है। जिसको लेकर लोग परेशान होने लगे हैं। Haryana के करनाल जिले में अधिकारियों ने ‘Har Ghar Tiranga’ अभियान के तहत कथित तौर पर लोगों को राशन के साथ राष्ट्रीय ध्वज खरीदने के लिए मजबूर करने और राशन की पूर्व शर्त के रूप में Tiranga खरीदने के लिए कहने के लिए एक राशन डिपो धारक का लाइसेंस निलंबित कर दिया है।

जानें, पूरा मामला

करनाल जिले के हेमदा गांव में बुधवार को एक राशन की दुकान (पीडीएस दुकान) पर लोगों को कथित तौर पर 20 रुपये का Tiranga झंडा खरीदने के लिए मजबूर किया गया अन्यथा उन्हें राशन नहीं मिलेगा।

करनाल के उपायुक्त अनीश यादव ने कहा कि मामला जिला प्रशासन के संज्ञान में आते ही राशन की दुकान का लाइसेंस तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। यादव ने कहा कि हम पीडीएस दुकानों के माध्यम से तिरंगा झंडा खरीदने के इच्छुक लोगों को 20 रुपये में तिरंगा दे रहे हैं। हमें पता चला कि एक डिपो धारक ने राशन लाभार्थियों को जबरदस्ती Tiranga खरीदने को मजबूर किया। प्रशासन ने उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की और उसका लाइसेंस निलंबित कर दिया गया।

उन्होंने आगे कहा कि जनता की सुविधा के लिए जिला प्रशासन ने राशन डिपो धारकों को झंडे उपलब्ध कराए हैं और जो इच्छुक हैं वह 20 रुपये में खरीद सकते हैं। आजादी का अमृत महोत्सव के तहत हम करनाल जिले में हर घर Tiranga कार्यक्रम मना रहे हैं। इसके तहत जिला प्रशासन ने 600 से अधिक राशन डिपो धारकों को झंडे प्रदान किए हैं। इच्छा के अनुसार, कोई भी 20 रुपये देकर झंडा ले सकता है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी ने भी वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, ‘दुर्भाग्यपूर्ण होगा अगर आजादी की 75वीं वर्षगांठ का जश्न गरीबों पर बोझ बन जाए। राशन कार्ड धारकों को Tiranga खरीदने के लिए मजबूर किया जा रहा है। या इसके बदले उनके हिस्से का राशन काटा जा रहा है। उन्होंने कहा कि गरीबों का निवाला छीनकर हर भारतीय के दिल में बसे तिरंगे की कीमत वसूल करना शर्मनाक है।

‘Har Ghar Tiranga’ आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में लोगों को Tiranga घर लाने और भारत की आजादी के 75वें वर्ष को चिह्नित करने के लिए इसे फहराने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एक अभियान है। आजादी का अमृत महोत्सव स्वतंत्रता के 75 साल और अपने लोगों, संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को मनाने और मनाने के लिए भारत सरकार की एक पहल है।

यह भी पढ़ें – Delhi में फिर से लगाना होगा मास्क, जुर्माना देने को भी रहें तैयार

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है